Thursday, 30 May 2013

बादल तु जल्दी आना रे (भाग २)





काले काले बादल बताओ तुम           
कहाँ है तुम्हारा देश?
कहाँ से तुम आये ,जा रहे हो कहाँ
जहां होगा नया नया परिवेश।
दूर  देश  से  आये  हो तुम
थक कर हो गये हो चूर चूर ?
करो विश्राम घडी दो धडी यहाँ
 जाना है तुम्हे बहुत दूर।।

देखो नदी, नाला ,पोखर ,कुआँ ,
यहाँ  सुख गया है सारा ,
जाने के पहले बरस जाओ यहाँ
इस देश को बना जाओ हराभरा।
पहला फुहार किया जीवन का संचार
तुम ने उड़ाया गोरी का होश ,
चंचल तितली ज्यों चक्कर काट रही है
मानो हो गई है मदहोश।।

धीर गंभीर  सिन्धु पुत्र हो , सिन्धु जैसा
श्याम-नील वर्ण काया ,
सिन्धु जैसा गंभीर गर्जन सुनकर
कांप जाता है जग  सारा।
 दामिनी   दमक   डराती   है   सबको
गिरती है दामिनी जब धरती पर ,
फुहार तुम्हारा ला देता  है मुस्कराहट
दुखी पीड़ित चेहरे पर।।

पयोधर तुम्हारा पय  अमृत है,
है यह जीवन संजीवनी ,
पीकर धरती हो जाती है सजीव
खेतों में लहराती हरियाली।
प्रिया के चेहरे की चमक लौट आती है
जब घर आता है परदेशी पिया ,
किसान  के  चेहरा  खिल  जाता है
जब देखता है खेत फसल से भरा।। 




किसान के भाग्य-विधाता कोई है ....
तो वह तुम ही हो, हे जलधर!
किसान उगाता फसल ,पेट भरने मानव का
किसान आश्रित है तुम पर।
अच्छा फसल होना ना होना ,सब कुछ 

है तुम्हारी वर्षा पर निर्भर,
मानव  के जीवन में खुशहाली लाने,  हे मेघराज !
खुश हो कर वरसो  इस धरती पर।। 
(सभी चित्र गूगल से साभार )
कालीपद "प्रसाद"
सर्वाधिकार सुरक्षित

27 comments:

  1. मेघ आशा हैं ... ऊर्जा का संचार हैं ...
    सुन्दर रचना है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. bahut sundar aasha vardhak rachna , badhai aapko

      Delete
  2. किसान उगाता फसल पेट भरने मानव का
    किसान आश्रित है तुम पर ,,,

    बहुत उम्दा,लाजबाब पंक्तियाँ ,,

    Recent post: ओ प्यारी लली,

    ReplyDelete
  3. सच में वर्षा जीवन के लिए बहुत आवश्यक है...बहुत सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  4. bin pani sab sun,jal hi jiwan hai, bahut khoob

    ReplyDelete
  5. बहुत ही खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  6. गर्मी के मौसम आपकी यह रचना शीतलता प्रदान कर रही है आभार

    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य पधारें
    टिप्‍पणी के रूप में मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ साथ पर अनुसरण कर अनुग्रहित करें
    MY BIG GUIDE
    नई पोस्‍ट
    अपने ब्‍लाग के लिये सर्च इंजन बनाइये
    अपनी इन्‍टरनेट स्‍पीड को कीजिये 100 गुना गूगल फाइबर से
    मोबाइल नम्‍बर की पूरी जानकारी केवल 1 सेकेण्‍ड में
    ऑनलाइन हिन्‍दी टाइप सीखें
    इन्‍टरनेट से कमाई कैसे करें

    ReplyDelete
  7. जीवन का संचार करती रचना खुबसूरत आह्वान

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब रचना | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर..खुबसूरत आह्वान..

    ReplyDelete
  10. बरसो बादल, जल्दी बरसो

    ReplyDelete
  11. वाह...
    बहुत सुन्दर...
    आपकी गुहार सुन बादल आते ही होंगे...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया भावपूर्ण रचना ! कालीदास के मेघदूत की याद आ गयी ! बादल, बारिश, किसान और फसल का बड़ा गहरा रिश्ता है ! उत्तम अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शुक्रवार (31-05-2013) के "जिन्दादिली का प्रमाण दो" (चर्चा मंचःअंक-1261) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. डॉ रूपचंद्र शास्त्री "मयंक " जी आपका आभार .दो दिनसे कार्य वसत: ब्लॉग पर आ नहीं सका.

      Delete
  14. सुन्दर प्रस्तुति !!

    ReplyDelete
  15. badalo ko nimantran deti sundar rachna

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर रचना
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  17. waah bahut khoob sundar rachna.

    ReplyDelete
  18. BAADAL NE SUN LIYA HAI JALDI AAYEGA .....BAHUT BADHIYA ...

    ReplyDelete
  19. इतनी मनुहार करने पर बादल नहीं आयें, ऐसा नहीं हो सकता.

    सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  20. बादल तू जल्दी आ रे
    वाह क्या अनुभूति है
    बादल आयेंगे पानी बरसाएँगे
    खेत लह्लाहयेंगे
    जीवन को कर देंगे तरोताजा
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति
    सादर

    आग्रह है पढें
    तपती गरमी जेठ मास में---
    http://jyoti-khare.blogspot.in

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर बादल राग अच्छी प्रस्तुति !!

    ReplyDelete
  22. बरखा रानी आपकी हम सब के लिए मांगी दुआ कबूल करे ....
    भाई जी !
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete