Tuesday, 16 July 2013

सुख -दुःख


दिन के उजाले  में लोग भूल जाते है काली रात को 
काली रात फिर आएगी ,तुम याद रखकर तो देखो।

रौशनी के आने पर ,तम भाग जाता है
गम को भुलाकर एकबार, हंसकर तो देखो।

तुम को  दुखी देखकर ,दुखी है अपने सारे 
उनके दुःख का भी एहसास  कर तो  देखो।

चाहत अनंत है ,हर चाहत पूरी नहीं होती 
यकीन न हो तो दोस्तों से पूछकर तो देखो।

शरीर का घाव अपने आप भर जायेगा 
जरा अंतर्मन का घाव को ,भुलाकर तो देखो।

दुनियाँ  रंगीन है , गम के साथ खुशियाँ  है बेसुमार 
जरा गम के दुनियाँ से बाहर, आकर तो देखो।

इस  जिंदगी में न कोई सदा दुखी, न कोई सदा सुखी
दुःख से ही सुख का एहसास है , सोचकर तो देखो। 

कर्मफल का "प्रसाद " मिलता सबको है जिंदगी में 
कभी तुरंत कभी देर से, जरा धीरज धर के तो देखो।



कालीपद "प्रसाद "


©सर्वाधिकार सुरक्षित




38 comments:

  1. सार्थक हिदायतें देती आत्मीय सी रचना ! बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  2. sahi kaha....dono ek dusre kay purak hain.....sundar rachna

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कर का मनका डाल कर ... मन का मनका फेर - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग बुलेटिन के टीम का ह्रदय से आभार

      Delete
  4. सुन्दर सीख देती रचना !!

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया रचना...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. क्या बात है, बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  7. सुंदर सीख

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  9. वाह लाजवाब गजल.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. बढ़िया सार्थक प्रस्तुति आदरणीय बहुत- बहुत बधाई

    ReplyDelete
  11. बढ़िया सीखों भरी रचना !

    ReplyDelete
  12. behatareen prastuti ke liye aabhar sir ji .....hr pnakti me goodh sandesh mila.

    ReplyDelete
  13. बहुत उम्दा,सुंदर सृजन,,,वाह !!! वाह क्या बात है,,,

    RECENT POST : अभी भी आशा है,

    ReplyDelete
  14. शुभप्रभात
    बहुत ही सुंदर और सार्थक अभिव्यक्ति
    और सशक्त गजल
    बहुत-बहुत बधाई
    सादर ....

    ReplyDelete
  15. शुभप्रभात
    इस जिंदगी में न कोई सदा दुखी, न कोई सदा सुखी
    दुःख से ही सुख का एहसास है , सोचकर तो देखो
    कोई एक ही मिले तो इंसान पागल हो जायेगा
    बहुत ही सुंदर ज्ञानवर्द्धक और सार्थक अभिव्यक्ति
    सादर ....

    ReplyDelete
  16. कर्म फल ही हमारा प्रालब्ध है हासिल है बढ़िया प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  17. सटीक और सार्थक रचना .... सुख दुख आते जाते रहते हैं ।

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुन्दर और सार्थक रचना..ाअभार

    ReplyDelete
  19. हंसना आवश्यक है ..
    बढ़िया बढ़िया भावाव्यक्ति पर !

    ReplyDelete
  20. सच कहा है गम की दुनिया से बाहर आने पे खुशी जरूर मिलती है ...
    लाजवाब ...

    ReplyDelete
  21. सुन्दर सीख देती हुयी पंक्तियाँ..

    ReplyDelete
  22. यही धीरज तो खोता जा रहा है इंसान...

    ReplyDelete
  23. वाह... उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  24. सुख दुःख लगे रहते है जीवन में ..संभव जरुरी है जीने के लिए ...
    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  25. सुंदर प्रस्तुति ।।।

    ReplyDelete
  26. बढ़िया प्रस्तुति कर्म छाया की तरह संग चलता है .जो कुछ आज घाट रहा है हमारे साथ वह परिणाम है पूर्व कर्मों का .कर्तं सो भोग तम .कार्य कारण सम्बन्ध है यहाँ भी .बढ़िया दर्शन लिए है पोस्ट .

    ReplyDelete
  27. शिक्षाप्रद पंक्तियाँ ......!!

    ReplyDelete
  28. जीवन जीने की सीख सिखाती बेहतरीन गजल
    बहुत सुंदर
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सादर

    आग्रह है
    केक्ट्स में तभी तो खिलेंगे--------

    ReplyDelete
  29. एक मकसद एक मंजिल लिए है यह गजल एक पैगाम भी

    ReplyDelete
  30. sundar prastuti , ak sandeh bi hai yah gazal

    ReplyDelete
  31. जिंदगी का फलसफा समझाती गज़ल । बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete