Sunday, 22 September 2013

हे निराकार!


                                   

हे निराकार निर्गुण, कहो कहाँ छुपे हो तुम 
ढूंढ़ु कहाँ बतलाओ, किस रूप में हो तुम 
हर घड़ी बदलते, अनन्त  रूप तुम्हारा
कुछ देर ठहरकर, पहचान अपना कराओ तुम। 

पल पल बदलते, रूप तुम्हारा 
पल पल बदलती, तुम्हारी सत्ता 
पल पल बदलती, तुम्हारी स्थिति 
पलपल बदलती, हमारी जिंदगी।


तुम हो सर्वोपरि शिरोमणि सर्वशक्तिशाली 
तुम हो सर्वेश्वर सिरमौर सर्वक्षमताशाली
कृपासिंधु दीनबन्धु तुम हो परोपकारी
तुम हो शीलवन्त सर्वव्यापी सर्वगुणशाली।

कृपालु हो ,दयालु हो, हो तुम वनमाली 
गौ पर असीम कृपा तुम्हारा, करते हो रखवाली 
सखा तुम्हारा समर्पित, घर तुम्हारा जग सारा 
मुझे बना लो सेवक अपना, करूँगा तुम्हारी रखवाली।

कालीपद "प्रसाद "
© सर्वाधिकार सुरक्षित 
 




29 comments:

  1. बहुत ही सुंदर रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. विनय एवँ आस्था को निरूपित करती अनुपम रचना ! बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन रचना.....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब,सुंदर उत्कृष्ट रचना !

    RECENT POST : हल निकलेगा

    ReplyDelete
  5. शरणागतवत्सल प्रभु की कृपा बनी रहे सब पर!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - सोमवार - 23/09/2013 को
    जंगली बेल सी बढती है बेटियां , - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः22 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra





    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत आभार दर्शन जी !

      Delete
  7. भावपूर्ण याचना...... सुन्दर

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना ....
    :-)

    ReplyDelete
  9. यही है तुलसी दास्य भाव की भक्ति जहां पूर्ण समर्पण हैं।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर भाव.

    ReplyDelete
  11. सुंदर भावपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  12. अहा! अति सुन्दर.. उत्कृष्ट भाव..

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर भाव...

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर भाव...

    ReplyDelete
  15. aastha se paripurab bhav liye bahut sundar rachna

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर प्रार्थना . गहन भाव

    ReplyDelete
  17. सुन्दर वंदना-
    ईश्वर की कृपा बनी रहे-
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
  18. निराकार को समर्पित सुंदर भाव

    ReplyDelete
  19. अत्यंत सुंदर भावोस से ओतप्रोत शानदार रचना ..हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  20. आओ, हम सब राह देखते,
    नित अधर्म का स्याह देखते।

    ReplyDelete
  21. wah sundar bhav liye hue sundar rachna

    ReplyDelete
  22. खूबसूरत शब्द रचना

    ReplyDelete