Tuesday, 22 October 2013

मैं

"मैं "
एक शब्द रूप हूँ ......
प्रतिनिधि हूँ  उसका 
जो अलौकिक है 
परलौकिक है
अदृश्य है 
अस्पर्शनीय है
किन्तु श्रब्य है 
चेतन है
गतिमान है
वह उत्पत्ति का केंद्र है |

भौतिक दृश्य जगत से परे
कौन हैं वहाँ?
मैं कहता हूँ   - "मैं हूँ "
तुम कहते हो ---"मैं हूँ "
वह कहता है ......"मैं हूँ "

"मैं " अर्थात     अहम्  म्  म् म् .........म्म्म्म्मम्म्म्म्म् है यह ब्रह्मनाद 
"हूँ "  अर्थात     हुम् .....म् म् म्-------म्म्म्म्म्म्म्म्म्   यह भी है ब्रह्मनाद 

मैं मैं मैं ................
सब "मैं' मिलकर बनते हैं "हम "
हम अर्थात -हम् म् म्..........म्म्म्म्म्म्म्म्+अ .......अन्तहीन अह्नाद ..
अह्नाद समाहित है ब्रह्नाद में 
सबकी उत्पत्ति के मूल में |

ब्रह्म नाद अदृश्य है 
यह अस्पर्शनीय  है 
यह अलौकिक है 
यह परलौकिक है 
किन्तु यह श्रब्य है 
यह चेतन है 
यह गतिमान है |  

सुन सकते हो, तो सुनो निर्जन में
रखो अंगुली अपने कर्ण मुल में
आँख मुंदकर आजाओ ध्यान मुद्रा में
स्थिर कर चंचल मन को
सुनो ध्यान  से " हूँ.... "कार को 
यही है "मैं' "हूँ " " अहम् " " हम ' का अन्तिम रूप 
यही है हर शब्द का ब्रह्मरूप ,
यह अनन्त है 
यह अदृश्य है 
यह अविनाशी है 
यह सर्वव्यापी -सर्वत्र है 
स्वयंभू है 
ब्रह्मनाद है ,
सृष्टि का मूल है | अंत भी है |

अहम्  आदि है -सृष्टि है 
अहम् मध्य है -स्थिति है 
अहम् अन्त है -संहार है 
अहम् ब्रह्मा विष्णु महेश है 
यही है  अ  -उ -म अर्थात ॐ 
सृष्टि स्थिति और  शेष 
"मैं" में विलीन हैं 
ब्रह्मा विष्णु महेश|


कालीपद "प्रसाद"

© सर्वाधिकार सुरक्षित





44 comments:

  1. आपकी लिखी रचना मुझे बहुत अच्छी लगी .........
    बुधवार 23/10/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    में आपकी प्रतीक्षा करूँगी.... आइएगा न....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यशोदा जी ! जरुर

      Delete
  2. बहुत सुन्दर है सब कुछ जो लिखा है। डूबकर इतरा कर भाव में भक्ति राग में। अपने निज स्वरूप में।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (22-10-2013) मंगलवारीय चर्चा---1406- करवाचौथ की बधाई में "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    करवा चौथ की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार रूपचंद्र शास्त्री जी !

      Delete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!सादर...!

    ReplyDelete
  5. वाह सुन्दर व्याख्या .....

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  7. शब्द हमारे संबंधों का माध्यम है।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  9. उत्कृष्ट काव्य रचना

    ReplyDelete
  10. बहुत ही उम्दा उत्कृष्ट अभिव्यक्ति ,,,! बधाई ,,,

    RECENT POST -: हमने कितना प्यार किया था.

    ReplyDelete
  11. नमन आपके जज्बात को
    मंगलकामनाएं
    सादर

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  13. ॐ ekmatra sabd brahm ... sukun or shnati dene wala..

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब ... पर कभी कभी मैं अहम भी हो सकता है ... जो दूर ले जाता है अहम् से ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप सही है, पर "अहम" एक भाव है "मैं " -अहम् भाव नहीं कर्ता है | आभार

      Delete
  15. सुन्दर प्रस्तुति "मैं" अहम और अहंकार का दूसरा नाम है

    ReplyDelete
  16. इस रचना में ध्यान का प्रयोग भी बताया है जो की बहुत बढ़िया है
    यदि प्रयोग हो तो अनुभव का अधिक आनंद है !

    ReplyDelete
  17. अनुपम भावों का संगम ....

    ReplyDelete
  18. मैं को सार्थक शब्दों में प्रस्तुत किया है ....

    ReplyDelete
  19. बहुत ही गहन भाव.... और मैं ही शिव हूँ..... के भाव का अच्छा चित्रण के साथ अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  20. ...................................................................nice

    ReplyDelete
  21. गीता का सारांश पढ़, रविकर भाव विभोर |
    कर्म भक्ति का पथ पकड़, चले ब्रह्म की ओर |

    सादर-

    ReplyDelete
  22. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
  23. सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  24. सब 'मैं' मिलकर बनते है हम …अति सुन्दर सार्थक रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 26/10/2013 को बच्चों को अपना हक़ छोड़ना सिखाना चाहिए..( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 035 )
    - पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. उपासना जी आपका आभार !

      Delete
  26. वाकई बहुत खूबसूरती से शब्दों का प्रयोग करते हैं आप..
    सुन्दर लेख

    मेरी दुनिया.. मेरे जज़्बात..

    ReplyDelete
  27. निशब्द कर दिया आपकी रचना ने .....
    प्रणाम स्वीकारें

    ReplyDelete
  28. शानदार अनुभूति परक रचना ।
    यहाँ भी आपके विचार आमंत्रित हैं >> http://corakagaz.blogspot.in/2013/03/tera-vistaar.html & >> http://corakagaz.blogspot.in/2012/07/blog-post.html

    ReplyDelete
  29. आपके ब्लॉग को ब्लॉग - चिठ्ठा में शामिल किया गया है, एक बार अवश्य पधारें। सादर …. आभार।।

    नई चिठ्ठी : चिठ्ठाकार वार्ता - 1 : लिखने से पढ़ने में रुचि बढ़ी है, घटनाओं को देखने का दृष्टिकोण वृहद हुआ है - प्रवीण पाण्डेय

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
  30. बहुत ही बेहतरीन और सार्थक रचना...
    लाजवाब...
    :-)

    ReplyDelete
  31. बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete