Friday, 12 September 2014

दिल की बातें ***






वे ज़ख्म देते हैं  ,मैं  मुस्कुराता हूँ 
वे खुश होते हैं ,मैं रिश्ता निभाता हूँ |
सभी रिस्ते गए थे टूट बहुत पहले 
रिवाजों का ही" ढोए बोझ जाता हूँ |
मुसीबत में लोग गधे को बाप कहते है 
इसी उम्मीद से गधे की जिंदगी जी रहा हूँ |
किस्मत कहते हैं किसको ,मुझे नहीं पता
मैं तो अपना कर्म का फल भोग रहा हूँ |
शब्द के अथाह सागर में गोता लगाता हूँ
मन पाखी को भाता है शब्द वही कहता हूँ | 
पूजता हूँ ईश्वर ,अल्लाह ,पाने उनके 'प्रसाद '
आजतक किसने पाया ,उसको ही ढूंढ़ रहा हूँ | 


(c) कालीपद "प्रसाद "

12 comments:

  1. लाजवाब अतिसुन्दर...

    ReplyDelete
  2. अच्छी भावपूर्ण रचना !
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है !

    ReplyDelete
  3. इश्वर का होना महसूस किया जाता है ... ढूँढने से मिल ही जाता है ...
    भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
    बधाई मेरी

    नई पोस्ट
    पर भी पधारेँ।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति ! हिन्दी-दिवस पर वधाई ! यह देश का दुर्भाग्य है कि भारत की कोइ भी राष्ट्र भाषा ही नहीं है | राज-भाषा दसे जी बहलाया गया है ! सभी मित्रों से आग्रह है कि इस विषय में क्या किया जा सकता है, सलाह दें !
    ReplyDelete

    ReplyDelete
  6. वाह...सुन्दर और सार्थक पोस्ट...
    समस्त ब्लॉगर मित्रों को हिन्दी दिवस की शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@हिन्दी
    और@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    ReplyDelete
  7. भावपूर्ण प्रस्तुति
    अति सुंदर।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर पोस्ट है आपकी शुक्रिया आपकी निरंतर उत्साह वर्धक टिप्पणियों का।

    ReplyDelete
  9. नयी भाव भूमि के सकारात्मक रचना है आपकी ,

    ReplyDelete
  10. sunder rachna

    achha laga padhna

    shubhkamnayen

    ReplyDelete