Saturday, 20 December 2014

पेशावर का काण्ड







कायर डायर चलवाया था गोली जालियावाला बाग़ में
जहाँ आये थे आज़ादी के दीवाने,आज़ादी को हासिल करने !

तालिवानी डायर ने चलवाया गोली पेशावर के स्कूल में
फूलों जैसे कोमल बच्चे जब मगन थे खुदा के इबादत में |

विद्या मंदिर पेशावर को ,दरिंदों ने बना दिया बध-स्थान
क्रूरता से बना दिया उसे ,उन मासूमों का कब्र-स्थान  |

बच्चे होते हैं भगवान का रूप,कहते हैं गीता,बाइबिल,कुरआन
उनको मारनेवाला नहीं हो सकते, कभी इस जग का इंसान |

गर वीर होते वे ,लड़ते जंग में आकर वीरों से आमने सामने
मासूमों पर गोली चलाकर ,कायरता का सबुत दिया है सब ने |

निष्पाप निरपराधी अजातशत्रु ,शत्रुता से बेखर थे वे सब बच्चे
उन्हें मारकर आतंकियों ने ,इंसानियत के भाल पर लगाये धब्बे |

बुझ गए दीये शैशव में ,डूब गए अचानक प्रभात के तारे जैसे
खाली हो गयी माँ की गोद ,छलकती अश्कों को अब रोके कैसे ?

‘पाक’ ने पाला था सांप आस्तीन में, भारत को डसने के लिए
वही साँप ने डस लिया उसे,वक्त है अब केवल पछताने के लिए |


कालीपद "प्रसाद"
सर्वाधिकार सुरक्षित  

16 comments:

  1. कल 21/दिसंबर/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (21-12-2014) को "बिलखता बचपन...उलझते सपने" (चर्चा-1834) पर भी होगी।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार डॉ रूपचंद्र शास्त्री जी

      Delete
  3. http://ranjanabhatia.blogspot.in/

    ReplyDelete
  4. सार्थक रचना

    ReplyDelete
  5. जो दूसरों के लिए गड्ढे खोदता है उसी गड्ढे में खुद गिर जाता है...बेहद अफसोसनाक वहशियाना हरकत...

    ReplyDelete
  6. बेहद दुखद घटना......

    ReplyDelete
  7. अफसोस जनक। अब तो सुधर जायें।

    ReplyDelete
  8. मानवता यकीनन मरी होगी १६ तारीख को ...

    ReplyDelete
  9. behad sharmnaak ghatna thi...shayad is ghatna par har aankh se aansoo gire honge...achcha likha hai aapne

    ReplyDelete
  10. बेहद शर्मनाक घटना....

    ReplyDelete
  11. काश, इन आतंकियों को पता होता की वे क्या कर रहे है!! सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  12. सुन्दर सटीक रचना |सत्य को उजागर करती |

    ReplyDelete