Monday, 16 March 2015

सुना है मैंने !


सुना है मैं ने
रब है कण कण में
बोलने की जरुरत नहीं
जान लेते है सब कुछ
जो है तुम्हारे मन में l
गर फूस फुसकर कहोगे
फिर भी उनके श्रव्य से
बच नहीं पायोगे l
अगर यही सच है,
तो यह विरोधाभास क्यों है?
मंदिर में पंडित 
मस्जिद में मुल्ला
क्यों भोंपू लगाकर
ईश्वर अल्लाह को बुलाते है ?
क्या जन कोलाहलों में
ईश्वर अल्लाह बहरे हो गए हैं ?
मेरे पास न बुलंद आवाज़ है 
न मेरे पास कोई भोपू है 
क्या ईश्वर अल्लाह मेरी 
दुर्बल आवाज़ से अनजान है ?

कालीपद "प्रसाद"

12 comments:

  1. रब है कण कण में ... पर इंसान समझता कहाँ है ... उसको खोजता ही नहीं ....

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (18-03-2015) को "मायूसियाँ इन्सान को रहने नहीं देती" (चर्चा अंक - 1921) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' जी !

      Delete
  3. उत्तम रचना

    ReplyDelete
  4. sach kaha....ek din beti ney yahi prshn pucha tha sab itna chilla kar kyu arti karte hain....aram say shant sawar mey kyu nahi ..

    ReplyDelete
  5. यही प्रश्न हर जागरूक व्यक्ति के मन में है ! आभार

    ReplyDelete
  6. यही प्रश्न हर जागरूक व्यक्ति के मन में है !

    ReplyDelete
  7. बहुत ही अच्‍छी रचना।

    ReplyDelete
  8. उत्तम रचना

    ReplyDelete
  9. हम भूल गए हैं कि ईश्वर केवल सच्चे मन की प्रार्थना ही सुनता है. लेकिन सभी लकीर के फकीर बने हुए हैं...

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर बधाई
    मैन भी ब्लोग लिखता हु और आप जैसे गुणी जनो से उत्साहवर्धन की अपेक्षा है
    http://tayaljeet-poems.blogspot.in/

    ReplyDelete