Tuesday, 10 November 2015

चलते रहना है...


जिन्दगी मिली है तो, अंतिम श्वांस तक जीना है
रास्ता चाहे जैसा हो, उस पर चलते रहना है |
चाहे हिमालय की गगनभेदी, तीखी चोटियाँ हों
या महा सागर की, अनजान अतल गहराई हों,
बिना रुके निरन्तर, उसपर आगे बढ़ते जाना है
रास्ता चाहे जैसा हो, उस पर चलते रहना है |

कभी कंकड़, कभी काँटे, पग में चुभे चाहे शूल
डरकर नहीं रुकना कभी, करना नहीं यह भूल,
रबने दिया है यह जीवन, भरपूर इसको है जीना 
होगा परमात्मा से बेवफाई, उससे बिमुख होना,
बुलंद हिम्मत से जीवन को, बुलंदी पर पहुंचाना है
रास्ता चाहे जैसा हो, उस पर चलते रहना है |

सुख है तो दुःख है, जैसे हैं दिवस रजनी
देह है वाद्ययंत्र, काल बजाता, रोग-रागिनी,
बजते रहना है जैसे बजाय, सुर-ताल के रचयिता
हँसना रोना हर चोटपर, चाहता यही जग-रचयिता,
सुख-दुःख, रोग-शोक के, तार से जीवन जुडा है
रास्ता चाहे जैसा हो, उस पर चलते रहना है |


© कालीपद ‘प्रसाद’

5 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (11.11.2015) को "दीपावली विशेषांक"(चर्चा अंक-2157) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ, सादर...!

    ReplyDelete
  2. आभार राजेन्द्र कुमार जी !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपको दीप पर्व की सपरिवार हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  5. Deh hai vadyayantra, Kal bajata rog ragini, wah!

    ReplyDelete