Sunday, 20 July 2014

कर्मफल |






जानता हूँ मैं ,पाप-पुण्य नाम से ,जग में कुछ नहीं है |
कर्म तो कर्म है ,कर्म-फल नर, इसी जग में भोगता है |
कर्मक्षेत्र यही है, ज़मीं भी यही है, कोई नहीं अंतर ,
उद्यमी अपने उद्यम से ,बनाते हैं बंजर ज़मीं को उर्बर |
निरुत्सुक,निकम्मा ,आलसी सोते रहते हैं दिवस रजनी ,
बाज़ीगर-तगदीर खेलती है उन से आँख मिचौनी |
वही है धन संपत्ति का अधिकारी,जो है कर्मवीर,
आलसी होते हैं कँगाल,पर होते है वाक् –वीर |
कर्मवीर ने काम किया ,जिंदगी में आमिरी भोगा ,
उसने आमिरी भोगकर कोई पुण्य नहीं कमाया |
आलसी ने कुछ काम नहीं किया ,गरीबी झेला
गरीबी झेलकर उसने कोई  पाप नहीं किया |  
अपने अपने कर्मफल चखकर दोनों ने भरपूर जिया
मिथ्या पाप-पुण्य का अर्थ को निरर्थक प्रमाण किया |
साधू सन्त देते हैं परिभाषा कल्पित पाप-पुण्य का
वही करते हैं दुष्कर्म,भोगते हैं फल अपने दुष्कर्मों का |
कर्मफल को पाप- पुण्य का नाम देकर
खुद करते हैं हर कर्म, जनता को भ्रमित कर |
कर्म जो किसी को दुखी करे ,कहा उसको पाप
ख़ुशी देनेवाले कर्म हो जाते हैं पुण्य, निष्पाप |
पाप की चिंता छोडो ,पर-कष्टदायी कर्म से डरो
पुण्य की बात भूलो ,कुछ जन कल्याण करो |

कालीपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित

20 comments:

  1. अनमोल अकल्पनीय बधाई

    ReplyDelete
  2. अनमोल वचन...

    ReplyDelete
  3. अष्टादश पुराणेषुव्यासस्य वचनं द्वयं |. परोपकाराःपुण्याय पापाय पर पीड़नम् |

    ReplyDelete
  4. सुंदर प्रस्तुति , आप की ये रचना चर्चामंच के लिए चुनी गई है , सोमवार दिनांक - 21 . 7 . 2014 को आपकी रचना का लिंक चर्चामंच पर होगा , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
  5. सार्थक लेखन सुंदर संदेश के साथ

    ReplyDelete
  6. सुन्दर और सारगर्भित रचना |

    ReplyDelete
  7. कर्म पथ पर अग्रसर करती ... सुन्दर सारगर्भित पोस्ट ...

    ReplyDelete
  8. वाह बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  9. बहुत सारगर्भित प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  10. विचारों को परिमार्जित परिशोधित करती बहुत ही प्रेरक प्रस्तुति ! बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  11. जैसे कर्म वैसे फल साफ़ सूत्र है, सटीक रचना !

    ReplyDelete
  12. बेहद उम्दा और बेहतरीन ...आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@मुकेश के जन्मदिन पर.

    ReplyDelete
  13. सुंदर रचना..बोधपूर्ण भी !

    ReplyDelete
  14. bahut sundar ........saadr namste bhaiya

    ReplyDelete