Tuesday, 20 June 2017

दोहे

दोहे ( दार्जिलिंग पर )
बेकाबू पर्वत हुए, प्रश्न बहुत है गूढ़
हिंसा से ना हल मिले, मसला है संरूढ़ |

स्वार्थ लिप्त सब रहनुमा, प्रजागण परेशान
जनता का हित हो न हो, उनकी चली दूकान |


दोहे (रिश्तों पर )
यह रिश्ता है एक पुल, मानव है दो छोर
व्यक्ति व्यक्ति से जोड़ते, इंसान ले बटोर |

रिश्ते में गर टूट है, समझो पुल बेकार
टूटा पुल जुड़ता नहीं, नागवार संसार | 

कालीपद प्रसाद'

Friday, 16 June 2017

अतुकांत कविता

जीवन क्या है ?
वैज्ञानिक, संत साधु
ऋषि मुनि, सबने की
समझने की कोशिश |

अपनी अपनी वुद्धि की
सबने ली परीक्षा
फिर इस जीवन को
परिभाषित करने की,
की भरषक कोशिश |

किसी ने कहा,’मृग मरीचिका’
कोई इसे समझा “समझौता’
किसी ने कहा, “ भूलभुलैया”
“हमें पता नहीं, कहाँ से आये हैं
किस रास्ते आये हैं
किस रास्ते जाना है
यह भी पता नहीं
कहाँ जाना है |
जिसे हम देख रहे हैं, झूठ है
जो नहीं देख पा रहे हैं वो सच है |
बड़े बड़े साधू संत
वाइज और पादरी
का जवाब भी
एक नया भूलभुलैया है |

कई खंड काव्य
और महाकाव्य
लिखे गए है
इस भूलभुलैया पर |
किन्तु
सबके दिखाए गए मार्ग
अन्धकार के चिरकालीन
बंद दरवाज़े के पास जाकर
अंधकार में विलीन हो गए |  


कालीपद 'प्रसाद'

Wednesday, 14 June 2017

ग़ज़ल

दिल मिले या न मिले, हाथ मिलाते रहिये
प्यार हो या न हो’ पर, आँख चुराते रहिये |
पाक बंकर की’ कहानी को’ सुनाते रहिये
कागजों पर उन्हें’ जंगों में’ हराते रहिये |
पांच के बाद अभी और भी’ सर ले तो क्या
देश की जनता’ को’ उपदेश सुनाते रहिये |
काश्मीरों की’ कहानी है’ सभी को मालुम
दोगली नीति वजह देश जलाते रहिये |
कुछ न सूझे तो’ मनोभाव को’ भड़का कर तब
धर्म के नाम से’ उत्पात मचाते रहिये |
वोट देकर अभी’ सबको हो’ रहा पछतावा
आपसी स्वार्थ में’ पकवान पकाते रहिये |
मर भले जाय बिना अन्न गरीब ओ मजदूर
आप तो श्वान को’ ही गोस्त खिलाते रहिये |
मिथ्या भाषण करे’ औ गाल बजाए ‘काली’
झूठ का सच बना’ जनता को’ बताते रहिये |
कालीपद 'प्रसाद'

Sunday, 11 June 2017

ग़ज़ल

एक तर्ही ग़ज़ल
न उत्कंठा, न हो हिम्मत, नया क्या
न हो ज़ोखिम तो’ जीने का मज़ा क्या ?
चुनावी पेशगी में चीज़ क्या क्या
पुराने नोट अब भी कुछ बचा क्या ?
महरबानी ते’री झूठी ही’ लगती
है’ तू शातिर शिकायत या गिला क्या ?
निगाहें तेरी’ क़ातिल बेरहम किन्तु
बिना ये क़त्ल, मुहब्बत का नशा क्या ?
गज़ब का उसका’ चलना बोलना
इबारत क्या इशारत क्या अदा क्या ? ( गिरह )
कालीपद 'प्रसाद'

Tuesday, 6 June 2017

सरस्वती वन्दना (कुण्डलिया छंद में )




वर दे मुझको शारदे, कर विद्या का दान
तेरे ही वरदान से, लोग बने विद्वान
लोग बने विद्वान, आदर सम्मान पाये
तेरे कृपा विहीन, विद्वान ना कहलाये
विनती करे ‘प्रसाद’, मधुर संगीत गीत भर   
भाषा विचार ज्ञान, विज्ञानं का मुझे दे वर |
कालीपद ‘प्रसाद

Monday, 5 June 2017

विश्व पर्यावरण दिवस पर पांच दोहे

भावी पीढ़ी चाहती, आस पास हो स्वच्छ
पूरा भारत स्वच्छ हो, अरुणाचल से कच्छ |

हवा नीर सब स्वच्छ हो, मिटटी हो निर्दोष
अग्नि और आकाश भी, करे आत्म आघोष |* (खुद की शुद्धता की घोषणा उच्च स्वर में करे )

नदी पेड़ सब बादियाँ, विचरण करते शेर
हिरण सिंह वृक तेंदुआ, जंगल भरा बटेर |

पाखी का कलरव जहाँ, करते नृत्य मयूर
निहार अनुपम दृश्य को, मदहोश हुआ ऊर |


समुद्र की लहरें उठी, छूना चाहे चाँद
खूबसूरती सृष्टि की, भाव रूप आबाद |
कालीपद 'प्रसाद'

Tuesday, 16 May 2017

ग़ज़ल

मीना–ए-मय में’ मस्त सहारा शराब है
गुज़र गया है’ वक्त, नहीं अब शबाब है |

संसार में नहीं मिला दामन किसी का’ साफ
प्रत्येक चेहरा ढका, काला नकाब है |

इलज़ाम जो लगाया’ है’ उसका सबूत क्या
हिस्सा नही मिला यही केवल इताब है |

वह्काना’ बारदात घटित होती जीस्त में
यह जिंदगी सदैव दिखाती सराब है |

उजला धवल निशा में’ दिखाती अपूर्व रूप
यह वस्त्र पहनी’ है जो’ धरा माहताब है |

दुल्हन बनी रिझा रही’ आशिक है’ बावला
ये खूशबू-ए-रंग लगे ज्यों गुलाब है |

दुनिया में खौफ है विघटन का सही वजह
कोई डरा तो’ कोई’ निडर बेहिसाब है | | 

कालीपद'प्रसाद'    

Thursday, 11 May 2017

दोहे

, गौतम बुद्ध के मूल उपदेश चार दोहे में ( एक प्रयास )
********************************
जाति क्षेत्र के नाम से, समाज को ना बाँट
धर्म पन्थ भाषा नहीं, दोष गुणों पर छाँट |

समता ममता सब रहे, भाव भावना मूल
एक बद्ध कर चेतना,  भेद भाव है शूल |

तृष्णा इच्छा मूल है, कारण सब दुख दर्द
दीप स्वयं अपना बनो, और बनो हमदर्द |

जीव कामना शून्य हो, अहंकार मिट जाय
शील प्रज्ञा साधना, समाधि एक उपाय |***

नाच गान जो भी किया, मानव सभी प्रकार
कीर्तन जैसा गान में, है आनंद अपार |


कालीपद ‘प्रसाद’

Sunday, 7 May 2017

ग़ज़ल

पाक माना धूर्त है, चालाकी’ दिखलायेंगे’ क्या
देश के गद्दारों’ को, फिर पाक उकसायेंगे’ क्या ?

जान न्यौछावर की’ सैनिक देश रक्षा के लिए
ये सहादत से सियासत नेता’ चमकाएंगे’ क्या ?

चाहते थे वे कहे कुछ मोहनी बात और भी
जुमले’ बाजी से नहीं फुर्सत तो बतलायेंगे’ क्या ?

खुद की’ नाकामी छुपाने के लिए कुछ बोलते
भड़की’ है जनता अभी तलक और भड्कायेंगे’ क्या ?

सीमा’ से आतंक वादी चोर ज्यों अन्दर घुसे
तार काँटे तेज हद पर और लगवाएंगे’ क्या ?

आयुधों का डर दिखाकर कब तलक सुरक्षित रकीब
हम खड़े हैं युद्ध स्थल पर मस्त, घबराएंगे’ क्या ?

कालीपद 'प्रसाद'

Friday, 5 May 2017

सुचना

नमस्कार मित्रो ! मेरे ब्लॉग का URL जब से http से https हो गया है (AUTOMATIC) तब से dashboard नहीं खुल रहा है |इस कारण मैं  किसी  की  भी  रचना पढ़ नहीं पा रहा हूँ और न टिप्पणी दे पा रहा हूँ | क्या कोई मुझे मदत कर सकता है ताकि डैशबोर्ड फिर से खुलने लगे |

सादर
कालीपद 'प्रसाद'

लावणी छंद पर आधारित

छोड़ गए क्यों बालम मुझको, राह कौन अब दिखलाए
बच्चे हैं सब छोटे छोटे, उनको कैसे समझाए ?

कौन निर्दयी धोखा देकर, मेरे सिंदूर छिन लिया
पापा पापा चिल्लाये जब, बच्चों को क्या बतलाये ?

स्वदेश की रक्षा की खातिर, तैनात हुए सरहद पर
उनसे ऐसा बर्बरता क्यों, रहनुमा हमें समझाए |

होते गर मंत्री के रिश्ते, निंदा करके चुप होते ?
तब क्या होता जानते सभी, हमसे सच को न छुपाए |

“बलिदान न बेकार जायगा”, ये वादा है न तुम्हारा?
भारती की  आँसू पोंछने, बदला लेकर दिखलाए | 

कालीपद 'प्रसाद'

Thursday, 4 May 2017

ग़ज़ल

आज़ाद हैं यहाँ सभी’ उल्फत ही’ क्यूँ न हो
पावंदी’ भी को’ई नहीं’ तुहमत ही’ क्यूँ न हो |

मिलते सभी गले ही’ अदावत ही’ क्यूँ न हो
दिल से नहीं हबीब मुहब्बत ही’ क्यूँ न हो |

हर देश द्रोही’ जिसने’ किया धोखा’ देश से
गद्दार को सज़ा मिले हिजरत ही’ क्यूँ न हो |

तक़दीर क्या हनोज़ तजुर्बा हुआ नहीं
कुछ तो मिले नसीब, क़यामत ही’ क्यूँ न हो |

फैले हैं हाथ भक्त के’ दृग सामने तेरे
कुछ तो मिले अदीम, हकारत ही’ क्यूँ न हो |

अनुराग यदि पसंद नहीं, बावफा मेरी  
जलवत नसीब में नहीं’, खल्वत ही’ क्यूँ न हो |

गफलत भरा रिवाजें’ सभी दर्दनाक जो
कर त्याग सभी को’ रिवायत ही’ क्यूँ न हो |

कालीपद 'प्रसाद'

Thursday, 27 April 2017

ग़ज़ल

वो अश्क भरा चश्म, समुन्दर न हुआ था
उस दीद से’ दिल भर गया’, पर तर न हुआ था |
तू दोस्त बना मेरा’ चुराकर न हुआ था
संसार कहे कुछ भी’ सितमगर न हुआ था |
वर्षों से’ नहीं हम मिले’, यह एक फसाना
खिंचाव कभी कुछ कहीं’, जर्जर न हुआ था |
हर बार नयन से गिरे’ आँसू, मिले’ जब हम
वो अश्रु हमारा कभी’, गौहर न हुआ था |
दुनिया ने’ किया ज़ुल्म, निखारा सभी’ सद गुण
हम भी बने’ मज़बूत, सिकंदर न हुआ था |
वो गर्म निगाहें तेरी’, कहती थी’ फ़साने
 शोला जगा’ जब दिल में’ तो’ अवसर न हुआ था |
वो सुरमई’ आखें बड़ी’, औ गाल में’ कृष तिल
सब याद है’ मुझको, कभी’ कमतर न हुआ था |
गौहर –मोती
कालीपद ‘प्रसाद’

Thursday, 6 April 2017

ग़ज़ल


बिन तेरे जिंदगी में’ पहरेदार भी नहीं
दुनिया में’ अब किसी से’ मुझे प्यार भी नहीं |

बेइश्क जिंदगी नहीं’ आसान है यहाँ  
इस मर्ज़ की दवा मिले’ आसार भी नहीं |

कटती नहीं निशा ते’रे’ दीदार के बिना
दीदार और का कभी’ स्वीकार भी नहीं |

अब काटना है उम्र ख़ुशी हो या’ गम सनम
तू याद में बसेगी’ तो’ दुश्वार भी नहीं |

अनजान देश में कभी’ तुम यदि उदास हो
सन्देश किस तरह मिले’ अखबार भी नहीं |

दीवानगी 'प्रसाद' पे’ वहशत की हद हुई
अब वेदना का’ को’ई’ भी आजार भी नहीं |

दिल से अगर कभी कभी’ मिलता नहीं है’ दिल
समझौता’ मायने नहीं’ तकरार भी नहीं |

इनकी कला बखान करूँ क्या खुदा बता
लड़ते हैं’ और हाथ में’ तलवार भी नहीं |( गिरह )

शब्दार्थ
दुश्वार –मुश्किल ;  आजार – दुःख/दर्द का स्वाद
वहशत – पागलपन /भय

कालीपद ‘प्रसाद’
  

Wednesday, 5 April 2017

ग़ज़ल

तेरी’ उल्फत नहीं’ नफ़रत ही’ सही
गर इनायत नहीं, जुल्मत ही’ सही |
चाहा’ था मैं तेरी संगत ही मिले
तेरी’ संगत नहीं, फुरकत ही’ सही |
इश्क तुमसे किया’, गफलत हो’ गई
छोड़ सब ख्याति, हकारत ही’ सही |
नाम तो सब हुआ’, बदनाम अभी
मेरी’ वहशत तेरी शोहरत ही’ सही | (गिरह)
पास आना कभी’ होगा नहीं’ किन्तु
मेहरबानी दे ज़ियारत ही’ सही |
जीस्त लम्बी नहीं छोटी है यहाँ
अब इसे मान शिकायत ही’ सही |
ये कहावत तो’ सही है जानम
गर असल है नहीं’ हसरत ही’ सही |
शब्दार्थ :
जुल्मत =अनुदार, अन्धेरा
फुरकत = विरह, वियोग
गफलत =भूल
हकारत=तिरस्कार ,अपमान
वहशत =भय ,पागलपन
ज़ियारत =दर्शन,दीदार
हसरत = अभिलाषा, इच्छा, कल्पना 

 कालीपद ‘प्रसाद’

Thursday, 30 March 2017

नवरात्रि दुर्गा स्तुति

नवरात्रि दुर्गा स्तुति
१,
जयति जय दुर्गे, दुर्गति नाशिनी माँ
जयति वरदायिनी, कष्ट हारिणी माँ |
है तू शिवप्रिये गणमाता, तू कल्याणी माँ
शुभ्र-हिमवासी, गिरि पुत्री, पार्वती माँ |
रत्नालान्कार भूषिता, त्रिपुर सुंदरी माँ
संकट मोचनी, महिषासुर मर्दिनी माँ |
आयुध धारिणी, सब शत्रु नाशिनी माँ
जयति जय दुर्गे, दुर्गति नाशिनी माँ|
२.
तू ही विद्या, तू ही लक्ष्मी, तू ही है माँ शक्ति
तू ही वुद्धि, क्षुधा, तृष्णा, तू ही श्रद्धा भक्ति |
तू ही निद्रा, तू ही शांति, तू ही बोध ज्ञान
माता रुप में रखती तू, बच्चों का ध्यान |
तू ही स्मृति, तू ही भ्रान्ति, तू है मोह माया
सूक्ष्म रूप में तू व्याप्त, विश्व तेरी छाया |
विद्या वुद्धि हीन मैं, तू विद्या, तू है उमा
वर दे अकिंचन को, तू दयामयी माँ |
कालीपद ‘प्रसाद

Saturday, 25 March 2017

ग़ज़ल

ईंट गारों से’ बना घर को’ मकां कहते है
प्यार जब बिकने’ लगे, दिल को’ दुकां कहते हैं |
क्या पता क्या हुआ’ दिनरात जले दिल मेरा
प्यार में गुल्म१ को’ तो लोग नशा कहते हैं |
फलसफा जीस्त की, तकलीफ़ न देना औरों को’
गफलतों में’ गिरा इंसान बुरा कहते हैं |
आचरण नेता’ का’ विश्वास के’ लायक ही’ नहीं
इसलिए लोग उन्हें इर्स२ झूठा कहते हैं |
जब तलक आस बनी रहती’ खिली’ रहती जीस्त
आसरा टूटने’ को लोग क़ज़ा कहते हैं |
शब्दार्थ : १ गुल्म –सोहबत के लिए बेकरार होना
२ इर्स –गुण या काम पीढ़ी दर पीढ़ी चलना
(खानदानी)
कालीपद ‘प्रसाद’

Sunday, 12 March 2017

व्यंग



दोहे (व्यंग )
हमको बोला था गधा, देखो अब परिणाम |
दुलत्ती तुमको अब पड़ी, सच हुआ रामनाम||
चिल्लाते थे सब गधे, खड़ी हुई अब खाट|
गदहा अब गर्धभ हुए, गर्धभ का है ठाट ||
हाथ काट कर रख दिया, कटा करी का पैर |
बाइसिकिल टूटी पड़ी, किसी को नहीं खैर ||
पाँच साल तक मौज की, कहाँ याद थी आम |
एक एक पल कीमती, तरसते थे अवाम ||
करना अब कुछ साल तक, बेचैन इन्तिज़ार |
खाकर मोटे हो गए , घटाओ ज़रा भार ||
*****
होली पर एक दोहा
*************
होली फागुन पर्व है, खेलो रंग गुलाल |
हार जीत है जिंदगी, रखना दूर मलाल ||
© कालीपद ‘प्रसाद’

Saturday, 11 March 2017

होली

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ |
*******************************
आया रंगीला फागुन, लेकर फाग दुबारा
दिल के धड़कने देख, दिलवर को पुकारा |
जहां राधा वहीँ कृष्ण, वहीँ आनन्द वहीँ प्रेम
मथुरा वहीँ, बृज वहीँ, बरसाने वहीँ क्षेम |
ढाक ढोल मृदंग बाजे , नाचे ग्वाल नंदलाल
रंगों का ये इन्द्रधनुष, नभ में उड़े रे गुलाल |
श्रीराधा है प्रेममयी, कृष्ण रूप है प्रेममय
आनंद प्रेम रस कृष्ण, विलीन है सृष्ठिमय |
सारा जगत कृष्णमय, कृष्ण है जगत प्राण
राधा राधा जपे कृष्ण, श्रीराधा है कृष्ण प्राण |
फाल्गुन पूर्णिमा रात्रि, दुधिया चाँदनी कुँवारी
महा रास नृत्य में मस्त, राधा संग मुरारी |


© कालीपद ‘प्रसाद’

Tuesday, 7 March 2017

ग़ज़ल

छुपे जो देशद्रोही, वीर उनकी जान लेते हैं
हमारे देश ऐसे वीर से ,बलिदान लेते हैं |
छुपाते रहते खुद को त्रास में, आतंकवादी सब
करे कोशिश जो भी, सैनिक उन्हें पहचान लेते हैं |
जो करते देश से दृढ़ प्रेम, वो हैं देश के सैनिक
निछावर प्राण करते खुद, नहीं अहसान लेते हैं |
पडोसी हैं छुपा विश्वासघाती, छली हैं वे
 वो ठग गद्दार पीछे से कटारें तान लेते हैं |
अनैतिक है डराना, जुल्म करना निर्बलों पर नित्य
डरा कमज़ोर को सब व्होट तो, बलवान लेते हैं |
सुहानी जिंदगी जीना सदा, आसान मत समझो
मुसीबत में फँसाकर इम्तिहां, भगवान लेते हैं |
महत्ता दान की बढती, मिटे गर मुफलिसों की भूख
भिखारी हाथ खाली है, पुजारी दान लेते है |
@ कालीपद ‘प्रसाद’

Monday, 6 March 2017

ग़ज़ल

हर अजीमत से मेरा ज़ज्ब जवां होता है
देखता हूँ मैं कभी दर्द कहाँ होता है |

बिन कहे जिसने किया जीस्त के सब संकट नाश
नाम उसका खुदा रहमत है या माँ होता है |

हाट जिसमें बिके जन्नत की टिकिट धरती पर
नाम उसका यहाँ धर्मों की दुकां होता है |

लोग ऐसे नहीं बदनाम किसी को करते
आग लगती है तो हर ओर धुआं होता है |

जो भी आया यहाँ सबकी मिटी है हस्तियाँ
जिसने कुछ काम किया उसका निशाँ होता है |

आपसी प्यार से ही लोग जुड़े आपस में
बिन मुहब्बत के तो घर एक मकां होता है |

हैं चतुर नेता सभी, काम बताते कुछ भी
हर कदम में कोई इक राज़ निहां होता है |

जज अदालत भले फटकार लगाए उनको
रहनुमा को किसी से शर्म कहाँ होता है |

अब पढ़ाई हो गई ख़त्म सियासत आरम्भ
आज का देख ये हालात गुमां होता है |

शब्दार्थ : अजीमत =संकल्प ,निश्चय
ज़ज्ब = कशिश ,मोह , लगाव 


कालीपद ‘प्रसाद’