Wednesday, 3 January 2018

ग़ज़ल

मित्रो. से एक निवेदन : मित्रों की टिप्पणी का मैं शुक्रिया अदा नहीं कर पा रहा हूँ क्योंकि नीचे कुछ विकल्प होते हैं जैसे गुगुलअकाउंट ,लाइव जोर्नल .वर्ड प्रेस ओपन id ,URL Anonimous, इत्यादि .इसमें मैं गुगुल चुनकर भेजता हूँ पर पब्लिश नहीं होता | कोई मित्र मुझे बताएं क्या चुनना है ताकि प्रतिक्रिया पब्लिश हो |या कोई और सेटिंग ठीक करना है |

सुन्दर खुशबू फूलों से ही
मोहक मंजर लगता है |
फागुन के आने के पहले
होली अवसर लगता है |
मधुमास में’ टेसू चम्पा,
और चमेली का है जलवा
सोलह श्रृंगार सेधरती दुल्हन,
गुल जेवर लगता है |
काले बादल बरसे गांवों में,
मन के आपा खोकर
जहां भी देखो नीर नीर नीर,
महा सागर लगता है |
फैशन शो में सब बच्चे पहने,
रंग विरंगे पोषाक
कोई दीखता’ राज कुमारी,
कोई जोकर लगता है |
हीरे मोती चुनकर लाये,
पहना है शौक से’ माला 
महँगा है’ हार कहता,
मुझको कंकड़ पत्थर लगता है |
शुभ्र चमकदार चाँदनी का,
पर्त पड़ी है पर्वत पर
सच है या धोखा चन्दा का’,
बिछाया चादर लगता है |
शीत लहर चलती उत्तर से,
करती सबको दुखी यहाँ
ठण्डी का डंक को’ अब
सहना, हमको दूभर लगता है |
पढ़ लिखकर हुए सयाना,
टाई बांधे चलता बेटा
ठाठ बाट देखो उसका
बेटा अब अफसर लगता है |
मीठी है बोली उनकी,
कोयल भी शरमा जाय किन्तु
‘कालीपद’ का’ करारा तंज
ही’, सबको खंजर लगता है |

कालीपद 'प्रसाद'

Sunday, 31 December 2017

ग़ज़ल

अहबाब की नज़र
जिंदगी में है विरल मेरे निराले न्यारे’ दोस्त
हो गए नाराज़ देखो जो है’ मेरे प्यारे’ दोस्त |
एक जैसे सब नहीं बे-पीर सारी दोस्ती
किन्तु जिसने खाया’ धोखा किसको’ माने प्यारे’ दोस्त |
दोस्ती है नाम के, मैत्री निभाने में नहीं
वक्त मिलते ही शिकायत, और ताने मारे’ दोस्त |
कृष्ण अच्छा था सुदामा से निभाई दोस्ती
ऐसे’ इक आदित्य ज्यो हमको मिले दीदारे’ दोस्त |
संकटो में साथ दे ऐसा ही’ साथी चाहिए
जिंदगी भर दुःख के साथी है’ वो गम ख्वारे’ दोस्त |
एक या दो चार दिन की दोस्ती अच्छी नहीं
जीस्त भर ‘काली’ खरा यारी निभाने लारे’ दोस्त |
कालीपद 'प्रसाद'

Thursday, 7 December 2017

ग़ज़ल

किसी को’ भी’ नेता पे’ एतिकाद नहीं
प्रयास में असफल लोग नामुराद नहीं |

किये तमाम मनोहर करार, सब गए भूल
चुनाव बाद, वचन रहनुमा को’ याद नहीं |

गरीब सब हुए’ मुहताज़, रहनुमा लखपति
कहा जनाब ने’ सिद्धांत अर्थवाद नहीं |

जिहाद हो या’ को’ई और, कत्ल धर्म के’ नाम
मतान्ध लोग समझते हैं’, उग्रवाद नहीं  |

कृषक सभी है’ दुखी दीन, गाँव में बसते
वो’ घोषणाएँ’ भलाई की’, ग्राम्यवाद नहीं |

हरेक धर्म में’ कुछ बात काबिले तारीफ़
को’ई भी’ धर्म कभी होता’ शुन्यवाद नहीं |

को’ई भी’ बात में’ विश्वास जो करे बिना’सोच
इसे कहे सभी’ धर्मान्ध, वुद्धिवाद नहीं  |

करे यकीन सभी वाद में, सही हैं’ सभी
विवेक पर करे’ विश्वास, भूतवाद नहीं|

सभी चुनाव सभा में बवाल हो जाते
कि धर्म जलसा’ में’ कुछ फ़ित्ना’-ओ-फसाद नहीं |

 शब्दार्थ अर्थवाद= पूंजीवाद    
 ग्राम्यवाद-गाँव/गाँववासी की बराबर उन्नति के कार्य   
शुन्यवाद=जिसमे ज्ञान और सत्य का कोई मूल और
वास्तविक आधार न हो |

भूतवाद=भौतिकवाद 
कालीपद 'प्रसाद'

Wednesday, 6 December 2017

ग़ज़ल

तारीफ़ से हबीब कभी तर नहीं हूँ’ मैं
मुहताज़ के लिए कभी’ पत्थर नहीं हूँ’ मैं |
वादा किया किसी से’ निभाया उसे जरूर
इस बात रहनुमा से’ तो’ बदतर नहीं हूँ’ मैं |
वो सोचते गरीब की’ औकात क्या नयी
जनता हूँ’ शाह से कहीं’ कमतर नहीं हूँ’ मैं |
जनमत ने रहनुमा को’ जिताया चुनाव में
हर जन यही कहे अभी’ नौकर नहीं हूँ’ मैं |
अल्लाह ने दिया मेरा’ जीवन, करीम हैं
उन्नत नसीब लान से ऊपर नहीं हूँ’ मैं |
समझो मुझे प्रवाहिनी’ सरिता, बुझाती’ प्यास
खारा नमक भरा हुआ’ सागर नहीं हूँ’ मैं |
हर बात पर विकाश की’ बातें नहीं मैं’ की
मंत्री या’ बेवफा को’ई’ रहबर नहीं हूँ’ मैं |
इस देश की वजूद, हिफाज़त के’ वास्ते
खुश हो चढ़ूँ सलीब पे’, कायर नहीं हूँ’ मैं |
शब्दार्थ : लान=आजार वैजन के खुबसूरत पर्वत
रहबर-नेता ,अगुआ ; सलीब=सूली
कालीपद'प्रसाद

Monday, 13 November 2017

ग़ज़ल

ये जिंदगी तो’ हो गयी’ दूभर कहे बग़ैर
आता सदा वही बुरा’ अवसर कहे बग़ैर |
बलमा नहीं गया कभी’ बाहर कहे बग़ैर
आता कभी नहीं यहाँ’, जाकर कहे बग़ैर |
है धर्म कर्म शील सभी व्यक्ति जागरूक
दिन रात परिक्रमा करे’ दिनकर कहे बग़ैर |
दुर्बल का’ क़र्ज़ मुक्ति सभी होनी’ चाहिए
क्यों ले ज़मीनदार सभी कर कहे बग़ैर |
सब धर्म पालते मे’रे’ साजन, मगर है’ दूर
आकर गए तमाम निभाकर, कहे बग़ैर |
मिलने में’ थी हँसी ख़ुशी’ अब चैन भी नहीं
सुख चैन ले गए वो’ चुराकर कहे बग़ैर |
चौकस रहो सदा सभी’, गलती न कर कभी
बैरी चलाते’ विष बुझी’ नस्तर कहे बग़ैर |
जीवन सदैव धन्य हो’ चौकस विवेक हो
आती विपत्तियाँ सभी’ अक्सर कहे बग़ैर |
ये ज़िंदगी है’ चार दिनों की, अधिक नहीं
जाते सभी ‘प्रसाद’ रुलाकर कहे बग़ैर |
कालीपद 'प्रसाद'

Sunday, 5 November 2017

ग़ज़ल

अकसीर दवा भी अभी’ नाकाम बहुत है
बेहोश मुझे करने’ मय-ए-जाम बहुत है |
वादा किया’ देंगे सभी’ को घर, नहीं’ आशा
टूटी है’ कुटी पर मुझे’ आराम बहुत है |
प्रासाद विशाल और सुभीता सभी’ भरपूर
इंसान हैं’ दागी सभी’, बदनाम बहुत है |
है राजनयिक दंड से’ ऊपर, यही’ अभिमान
शासन करे स्वीकार, कि इलज़ाम बहुत है |
साकी की’ इनायत क्या’ कहे,दिल का फ़साना
आगोश में’ थी मेरे’ ये ईनाम बहुत है |
अकसीर - बहु गुण वाला
कालीपद 'प्रसाद'

Thursday, 19 October 2017

दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं


दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 

***********************

एक दीप ऐसा जले, मन का तम हो दूर
जब मन का तम दूर हो, मिले ख़ुशी भरपूर |

सबकी इच्छा पूर्ण हो, दैव योग परिव्याप्त
हँसी ख़ुशी आनंद हो, रिध्दि सिध्दि हो प्राप्त |
 *************शुभ दिवाली*************


कालीपद 'प्रसाद'