Wednesday, 30 July 2014

माँ है धरती !

चित्र गूगल से साभार

                                                                   
गर्मी थी तो दिन था शुष्क ,पर उज्वल
पवन भी था उन्माद ,वेगवान प्रवल ,
न जाने कहाँ से बहा ले आते
चंचल इच्छाओं के जलद बादल |
उमड़ घुमड़ कर नाचते कभी
गरज-गरज कर सबको डराते कभी
दामिनी दमक होती हृदयाकाश में
बादल जब बरसते जमकर क़भी |
धरती की प्यास बुझाने हेतु
मस्ती में बरस जाता कभी
नदी के दो कुल डूब जाते
मुसलाधार जब बरसते कभी |
धरती पीती एक एक बूंद जल
अपनी तीव्र प्यास को बुझती
होकर तृप्त भीतर बाहर से
करती असीम आनंद की अनुभूति |
अनुपम इस आनंद को धरती
नहीं करती यहाँ पर इसकी इति
कई गुण करके इस आनंद को
संतानों को लौटाती यह धरती |
पशु,पक्षी,वृक्ष,लता, त्रिनादी*वनस्पति
धरती पर उत्पन्न,सब हैं उनकी संतति
जीवन के आगाज़ से मृत्यु तक
पोषण करती हमें यह धरती |
राजा या रंक हो,कोई भेद भाव नहीं करती
जीवन में या अवसान में सबका ख्याल रखती
मृत्यु के बाद भी हर मानव को प्यार करती
अपनी गोद में प्यार से सुलाती है धरती |
बिना कोई प्रतिवाद किये
हर शोषण सहती है धरती
इन महान गुणों के कारण
सब कहते हैं हमारी माँ है धरती |


कालीपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित
 

25 comments:

  1. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 31/07/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार कुलदीप जी

      Delete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. वाह .... बेहतरीन

    ReplyDelete
  4. सार्थक सृजन ! बहुत सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  5. सार्थक ,... धरती माँ है तभी तो सहनशील है ...

    ReplyDelete
  6. सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  8. अर्थपूर्ण और सरस रचना !

    ReplyDelete

  9. सबकुछ सहती हैं तभी धरती माँ कहलाती हैं
    बहुत सुन्दर सृजन ...

    ReplyDelete
  10. सुंदर रचना और अर्थपूर्ण वर्णन।

    ReplyDelete
  11. आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 1 . 8 . 2014 दिन शुक्रवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  13. tabhi dharti ma kahlati hai ..sundar warnan ...

    ReplyDelete
  14. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  15. dharti k liye jitna kuchh likha jaye kam hai. bahut sunder prastutikaran hai.

    ReplyDelete
  16. सुन्दर प्रस्तुति ..सादर बधाई

    ReplyDelete
  17. प्रभावी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  18. बहुत खूब भाई जी ! मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  19. सुंदर और सार्थक अभिव्यक्ति ...बधाई स्वीकारें...

    ReplyDelete
  20. माँ है धरती और माँ सा कोई नहीं .... बहुत ही सुंदर रचना

    ReplyDelete
  21. उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    ReplyDelete