Friday, 8 August 2014

मेघ आया देर से ......


                                                



आषाढ़ गया सुखा सुखा, किसान हुआ बेहाल
मेघ आया देर से पर,सावन को कर दिया निहाल |

दिन को बरसे, रात को बरसे,बरसे घंटों लगातार
खुशियों के आलम छाये ,मेंढक गाये गाना टर-टर
चिड़िया छुप गयी घोंसलों में,भूख से शावक बेहाल
मेघ आया देर से पर,सावन को कर दिया निहाल |

रिमझिम रिमझिम मेह गिरे,धरती ने प्यास बुझाया
किसान ख़ुशी से झूम उठा,नरम भूमि में हल चलाया
तृप्त भूमि पर जाग उठे, फिर छोटे छोटे नौ-निहाल
मेघ आया देर से पर,सावन को कर दिया निहाल |

सुबह से शाम खेत में किसान,घुटना डूबे पानी में
एक हाथ में धान का रोपा,छाता धरा है दुसरे हाथ में
हर कष्ट को सह्लेता है,सोचकर होगा भविष्य खुशहाल
मेघ आया देर से पर,सावन को कर दिया निहाल |

कहीं हल बैल खींच रहा है,कहीं चल रहा है ट्रेक्टर
खेत जोतता ,बीज बोता ,फिर फसल काटता ट्रैक्टर
मजदूर और बैल को अब,ट्रैक्टर ने कर दिया बेकार
मेघ आया देर से पर,सावन को कर दिया निहाल |


बच्चों की छुट्टी ख़तम,लाद लिया बस्ता पीठ पर
रेनकोट पहन लिया कोई,छाता है किसी के सर पर
तेज बारिश ने भिगोया सबको,भीगकर हुआ बुरा हाल
मेघ आया देर से पर,सावन को कर दिया निहाल |

कालीपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित

19 comments:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 09 अगस्त 2014 को लिंक की जाएगी........
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (09-08-2014) को "अत्यल्प है यह आयु" (चर्चा मंच 1700) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार शास्त्री जी !

      Delete
  3. सुन्दर वर्षा बहार की फुहारों भरी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब


    सादर

    ReplyDelete
  5. सावन ना बरसा--भादों ही बरस जाय.

    ReplyDelete
  6. सावन भी बरस तो रहा है। देर से आया पर आ रहा है।

    ReplyDelete
  7. सुन्दर चित्र वर्षा रानी का ,शुक्रिया आपकी सार्थक टिप्पणियों का।

    ReplyDelete
  8. रक्षाबंधन पर शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चित्रण लिए पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर शब्द चित्र...

    ReplyDelete
  11. सावन का महीना हो और वर्षा की फुहार भिगोये न ऐसा कैसे हो सकता है...सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  12. sunder rachna....barsaat ka sajeeev chitran......

    ReplyDelete
  13. गणेश चतुर्थी की शुभकामनाएं ! बहुत अच्छी प्रस्तुति !!

    ReplyDelete