Sunday, 9 June 2013

प्रेम- पहेली

आज प्रेमी, प्रेमिका एस .एम .एस या ईमेल से प्रेम का इज़हार करते है। परतु पुराने ज़माने में ऐसा साधन नहीं था। एकमात्र साधन था पत्र। प्रेमिकाएं  पत्र लिखकर प्रेमी को भेजा  करती थीं परन्तु पत्र में कभी कभी अपना परिचय छुपाकर रखती थी और अनबुझ पहेली से अपना प्रेम प्रदर्शित करती थी। प्रेमी को उसे समझकर प्रेमिका के पत्र का उत्तर देना पड़ता था। ऐसे ही एक अनबुझ पहेली के उत्तर में प्रेमी क्या उत्तर देता है ,यही इस रचना का विषयवस्तु है।


प्रेमिका की पहेली :-

                              भेजती हूँ  पहेली प्राणप्रिये , जल्दी देना  उत्तर।

                              भूल ना जाना  प्राणप्रिया को, करुँगी मैं इंतज़ार।।


                                                            पहेली  

                                             " फूलों में फुल गुलाब का फुल

                                                जल में जल काशी का जल

                                                 भाई में  भाई  पराया  भाई  

                                                 रानी में रानी  दिल्ली की रानी।"    


 प्रेमी का जवाब :-

                              फूलों में तुम गुलाब हो ,नदियों में पावन गंगा .

                              मैं पराया भाई में श्रेष्ट हूँ ,मुझको बना लो तुम सैयाँ।

                              प्रियतमा ! हो कौन तुम ?नाम क्या है ? कहाँ है तुम्हारा बास ?                   

                              दर्द- ए -दिल से पीड़ित हो , आ जाओ , दवा है मेरे पास।

                              तुम दिल की रानी चतुर ,हो बड़ी अभिज्ञा सायानी ,

                              दिल की बातें  करती हो ,पर छोडती नहीं कोई निशानी।

                              पत्र तुम्हारा इत्र  में डूबा ,देता है मीठी   मधुर तासीर ,

                              तुम आओगी, जन्नत मिलेगा ,वर्ना भेजदो एक तस्वीर।                     

                              कब तक यूँ परदे में रहोगी ?  करोगी मुझे बेकरार ,

                               कैसा है रंग रूप तुम्हारा ,कैसा है आचार विचार ?

                               फूलों सा होगा कोमल बदन ,रंग गुलाब की पंखुडियां

                               कान में होगा झुमका   और ,हाथों में रंगीन चुदियाँ।

                               बालों में   गजरा होगा , पावों में आलता की लालिमा

                               मेहंदी से महकती बदन ,संकेत होगा तुम्हारे आने का।

                               आँखों में काजल होगा ,माथे पर प्रभात का रक्तिम सूरज ,

                               सुन्दर होगी तुम उर्वशी जैसी , तिलोत्तमा सम उत्तुंग उरज।

                               पायल  की   झंकार   होगी ,  जब  चलोगी  धरती  पर

                               रिमझिम बरसते पानी जैसे संगीत छाएगा मेरे मन पर।

                               अप्सराएं भी  शर्माती  होगी  देख तुम्हारी  रूप माधुरी ,

                               छुपी हो क्यों ? सामने आजाओ , मिटा दो बीच की दुरी।

                               मैं पियूँगा रूप -रस -मधुर ,पिलाना तुम आँखों आँखों में,

                               तुम दुबोगी, मैं  दुबूंगा, हम  डूबेंगे अथाह  प्रेम  सागर  में।

                               लिखो , कब आओगी ? कब होगा तुम्हारा मेरा मिलन ,

                               कमल मुख का दर्शन हेतु ,अधीर हैं ,हमसे नहीं होता सहन।

                               बेकरार दिल , फिर भी इंतज़ार रहेगा क़यामत तक ,

                               किन्तु इंतज़ार करता हूँ किसका ? नहीं जाना अब तक।

                               कैसे भेजूं पत्र तुम्हे ? कहाँ भेजूं ?   कोई नहीं है अता पता ,

                               इतनी मेहरबानी करो मुझ पर ,भेज दो अपना घर का पता।






                        कालीपद "प्रसाद"

                  

                      ©सर्वाधिकार सुरक्षित

                            

                                                

31 comments:

  1. वाह, बहुत ही सुन्दर उत्तर।

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत ही सुन्दर..

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बेहतरीन और सार्थक प्रस्तुति,आभार।

    ReplyDelete
  4. घर का पता नहीं होता था तो पत्रोत्तर कैसे जाता था
    मनोरंजक रचना

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन उत्तर और सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  6. आह्लादित करती पंक्‍तियाँ। प्रेम हर रंग में, हर रूप में लुभाता है।

    ReplyDelete
  7. किस युग में ले गए :-)

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना... आभार

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन जवाब ,लाजवाब रचना

    ReplyDelete
  10. वह ! क्या कहने !

    ReplyDelete
  11. बहुत खुबसूरत ......

    ReplyDelete
  12. कबूतर ने लाया होगा संदेश,
    जब प्रीतम बसे विदेश.

    ReplyDelete
  13. क्या बात है, बहुत सुंदर रचना
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  14. ये तो कर्ण पिशाचिनी यंत्र (मोबाईल) के जमाने से निकाल कर आप पौराणिक काल में ले गये? बहुत ही सुंदर.

    रामराम.

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  16. bada acchha samvad pyaar bhara ...

    ReplyDelete
  17. लाजवाब.....गजब,,आनंद आया !

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर सवांद ......

    ReplyDelete
  19. क्या बात है | परिपाटी से हट कर रचना |अनन्य | भावानुभूति अपने एक शेर से -
    नहीं है उम्र कम लेकिन,बहुत भोले हैं दिल के वो |
    किये ज़िद कल से बैठे हैं,दिखाओ दर्दे दिल हमको |
    -राज

    ReplyDelete
  20. बढ़िया लिखा है |
    आशा

    ReplyDelete
  21. भई वाह ..
    अनूठी रचना ! बधाई !!

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्छा
    सुन्दर लिखा प्रेमी का उत्तर...

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर संवाद ..मनभावन
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  24. ब्लॉग बुलेटिन की ५५० वीं बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन की 550 वीं पोस्ट = कमाल है न मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  25. वाह! क्या कहने लाजवाब रचना |

    ReplyDelete