Saturday, 12 November 2016

प्रदूषण

सागर पर्वत दरिया पादप, सुंदर हर झरना नाला
थे सुन्दर वन जंगल जैसे, हरा पीला फूल माला |
शुद्ध हवा निर्मल जल धरती, सब प्रसाद हमने पाया
काला धुआँ दूषित वायु सब, हैं स्वार्थी मनुष्य जाया ||

पागलों ने काट पौधे सब, वातावरण को उजाड़ा
बे मौसम अब वर्षा होती, बे मौसम गर्मी जाडा |
ववंडर कहीं तूफ़ान कहीं, है प्रदुषण का नतीजा
कहीं सुखा तो कही जल प्रलय, होगी विध्वंस उर्वीजा* ||

समझे नहीं इंसान अब तक, अब तो समझना पडेगा
वरना बहुत देर न हो जाय, तब जीवन खोना पडेगा |
हवा पानी सब प्रदूषित है, सुरक्षित नहीं है दिल्ली
इन्द्रप्रस्थ बन गया अब तो, सब मूढ़ का शेखचिल्ली ||

*उर्वीजा –जो पृथ्वी से उपजा हो

कालीपद ‘प्रसाद’

2 comments:

  1. आपकी ब्लॉग पोस्ट को आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति डॉ. सालिम अली और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। सादर ... अभिनन्दन।।

    ReplyDelete