Tuesday, 11 February 2014

बनो धरती का हमराज !







भानु के विरह में नभ ने
सिसक कर रातभर रोया ,
आँसू गिरा फुल पत्ती पर
रजनी का भी मन भर आया !
ढक कर मुंह काली चादर से
निश्छल,निस्तब्ध आँसू बहाया
पोंछ लिया झट से आँसू सुबह
जब भानु का आगमन हुआ||

रवि -रश्मि फैली चारो ओर
हुआ तब तम का पलायन
शीत ऋतू ,सर्द  सुन्दर सुबह
भक्तजन करे भजन गायन |
चहकती चिड़िया छोड़ी घोंसले
करने भोजन, दाने  की तलाश
मंदिर का आँगन ,खेत खलिहान
उड़ चली ,जहाँ है दानों की आस !

चूजों को खिलाना ,खुद भी खाना
नहीं कोई चिंता संचय का
सुखी है पशु पक्षी इस जगत में
नर दुखी है ,सोचता है कल का |
प्रकृति करती है  पोषण सबका
कल की चिंता छोड़ जिओ आज
प्रकृति कहती शोषण मत करो
सखा बनो, तुम मेरे  हम राज !


कालीपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित


23 comments:

  1. सुन्दर भाव लिए बढिया रचना..

    ReplyDelete
  2. प्राकृति है तो जीवन है ... और जीवन प्रेरणा देती प्राकृति है ..
    भावमय प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत भावाभिव्यक्ति
    सादर

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भावमयी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  5. प्रकृति चक्र पुलकित करता है।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति, धनयबाद .

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  8. भोर होते ही नयी आशाये नयी उम्मीदें ....बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
    Replies
    1. लाजबाब,सुंदर शब्द भावपूर्ण प्रस्तुति...!
      RECENT POST -: पिता

      Delete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (12-02-2014) को "गाँडीव पड़ा लाचार " (चर्चा मंच-1521) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार शास्त्री जी !

      Delete
  10. आपकी इस प्रस्तुति को आज की आज कि बुलेटिन - क्या हिन्दी ब्लॉगजगत में पाठकों की कमी है ? में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  11. thank's regard for your information and i like this post ^___^

    ReplyDelete
  12. प्रात : का जीवन का एक बिम्ब भी फलसफा भी वाह !

    ReplyDelete
  13. गहन विचारों की प्रस्तुति |
    आशा

    ReplyDelete
  14. आ० सर बढ़िया प्रस्तुति , धन्यवाद
    Information and solutions in Hindi

    ReplyDelete
  15. bahut sundar rachana ke sath prbhavi sandesh bhi mila ......sadar aabhar ke sath hi badhai apko .

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब लिखा | बढ़िया

    ReplyDelete