Tuesday, 8 July 2014

मेरा जन्म !



चित्र गूगल से साभार


मेरा जन्म !

अँधेरी कोठरी में
घोर अन्धकार में
तुम्हारी कृपा प्रकाश था
मुदित नेत्रों से भी
मैं देख सकता था |
मात्री गर्भ में हे ईश्वर!
तुम ने तिल-तिल जोड़कर
धीरज से मुझे बनाया
यतन से मेरा रूप सवांरा ,
जीवन के प्रतीक
स्वांस प्रस्वांस दिया |
जीवन का दूसरा पहचान
हर पल,हर घडी धड़कते
दिल की धड़कन दिया |

तुम मुझमें समाहित हो
जानूं ! वही निरंतर धड़कन हो,
धड़कन रुक जाती है
जब तुम रूठ जाते हो |
जब तुम मुझ में हो
तब किसी काम का मुझे
कोई डर  क्यों  हो ?
मुझ से कोई अच्छा या बुरा काम हो
ऐसा हो नहीं सकता ,
वही करता हूँ मैं
जो तुम करवाते हो |

मानव शिशु सब हैं एक बराबर
नहीं है नवजात में कोई अंतर ,
परिवार बनाता है उसे मेहनती
और किसी को आलसी ,लानती,
वही बनता उसे मज़हबी
 किन्तु ईश्वारेच्छा से अजनबी  |

करना तुम इतना कृपा
हे दयालु! दया  निधान ,
कराना कुछ काम मुझ से ऐसा
जिसमें छिपा हो जन कल्याण |


धन्य हो  मेरा परलोक जीवन 
धन्य हो  मेरा इहलोक जीवन 
पूर्ण करने तुम्हारी नेक इच्छा 
तुम्हे समर्पित दोनों जीवन |

ना जानूं ,क्या अच्छा है ,क्या बुरा है
नहीं जानता जग का आचार विचार
तुमको मैं जानूं सब कर्मो का अंत
अनतिम पढाव हर नदी का जैसे है महासागर |

कालीपद 'प्रसाद '
सर्वाधिकार सुरक्षित

28 comments:

  1. नैसर्गिक इच्छा अद्भुत भाव

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार माहेश्वरी कनेरी जी |

      Delete
  3. एक निश्छल, निष्कपट पावन प्रार्थना ! अति सुंदर !

    ReplyDelete
  4. गहरे भाव ... भावनाओं से ओतप्रोत ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार दिगंबर नासवा जी

      Delete
  5. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार कैलाश शर्मा जी |

      Delete
  6. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  7. ब्लॉग बुलेटिन आज की बुलेटिन, रेल बजट की कुछ खास बातें - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  8. गहन अनुभूतियों से सुस्‍ाज्ज्ति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार विकेश बडोला जी |

      Delete
  9. ब्लॉग बुलेटिन की आज गुरुवार १० जुलाई २०१४ की बुलेटिन -- राम-रहीम के आगे जहाँ और भी हैं – ब्लॉग बुलेटिन -- में आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार राजा कुमारेन्द्र सिंह जी !

      Delete
  10. गहरे भाव... सुन्दर रचना के लिए बधाई.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार डॉ जेन्नी शबनम जी !

      Delete
  11. बहुत सुन्दर प्रभावी रचना

    ReplyDelete