Sunday, 14 February 2016

मेरा मन उदास है !*

मेरा मन उदास है

हर साख पर फुल खिले हैं, वसन्त का पदार्पण है
भौंरें गुण गुना रहे हैं, पर मेरा मन उदास है |
फल-फूलों के खुशबु से, हवाएं सुवासित है
चिड़ियाँ चहक रही है, पर मेरा मन उदास है |
पीले-पीले सरसों फूल से, खेत सब भरे पड़े है
तितलियाँ मंडरा रही हैं, पर मेरा मन उदास है |
वासंती हवा गा रही है, कोयल के संग संग
पुष्प-लता सब झूम रही है, पर मेर मन उदास है|
लाल लाल टेसू के फूल, अनंग जगा रहा है
जीवन साथी के वियोग में, मेरा मन उदास है |
धरती ने किया अनुपम श्रृंगार, फुल-पत्ते हैं अलंकार
मोह रही है धरा वासी को, पर मेरा मन उदास है |
पिया ने सजाया था इस बाग़ को, बाग़ उजाड़ गया
श्रीहीन,सौरभ हीन इस बाग़ में, मेरे मन उदास है |
अली-गुन्जन,कोयल-कुजन, मधुमास का आभास है
पिया विहीन इस बाग़ में, मेरा मन उदास है |

कालिपद ‘प्रसाद’
© सर्वाधिकार सुरक्षित 

7 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 15 फरवरी 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " मालिक कौन है - ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन का आभार

    ReplyDelete
  4. सार्थक व प्रशंसनीय रचना...
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete