Monday, 25 November 2013

तुम



चाहता हूँ, तुझे  मना लूँ प्यार से
लेकिन डर लगता है तेरी नाराज़गी से |

घर मेरा तारीक के आगोश में है
रोशन हो जायेगा तुम्हारे बर्के हुस्न से |

इन्तेजार रहेगा तेरा क़यामत तक
नहीं डर कोई गम-ए–फिराक से |

मालुम है, कुल्फ़ते बे-शुमार हैं रस्ते में
इश्क–ए–आतिश काटेगा वक्त इज़्तिराब से |

बर्के हुस्न तेरी बना दिया है मुझे बे–जुबान
 करूँगा बयां दिल-ए-दास्ताँ,तश्न-एतकरीर से | 

 शब्दार्थ :बर्के =बिजली जैसा चमकीला सौन्दर्य 
        तारीक़= अँधेरा 
        तश्न-ए-तकरीर=होटों की भाषा   



   कालीपद 'प्रसाद'



© सर्वाधिकार सुरक्षित



 

31 comments:

  1. रुचिकर प्रस्तुति-
    आभार भाई जी-

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर ग़ज़ल.... !!

    ReplyDelete
  3. अति सुन्दर
    आभार अच्छी सामग्री के लिए

    ReplyDelete
  4. उम्दा लिखा है..

    ReplyDelete
  5. बहुत खूबसूरत रचना, लाजवाब !

    ReplyDelete
  6. वाह!!! बहुत सुंदर और प्रभावशाली रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सादर

    आग्रह है--
    आशाओं की डिभरी ----------

    ReplyDelete
  7. बहुत कि बेहतरीन रचना....

    ReplyDelete
  8. बहुत खुबसूरत अभिव्यक्ति..आभार.

    ReplyDelete
  9. एक लम्बी अवधि के बाद अभिवादन ! अथ,सुकोमल भावुक श्रृंगार हेतु साधुवाद ! !रचना मनन को छू लेने वाली है |

    ReplyDelete
  10. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि कि चर्चा कल मंगलवार २६/११/१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है।मेरे ब्लॉग पर भी आयें ---http://hindikavitayenaapkevichaar.blogspot.in/पीहर से बढ़कर है मेरी ससुराल सखी(गीत

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार राजेश कुमारी जी
      (नवम्बर 18 से नागपुर प्रवास में था , अत: ब्लॉग पर पहुँच नहीं पाया ! कोशिश करूँगा अब अधिक से अधिक ब्लॉग पर पहुंचूं और काव्य-सुधा का पान करूँ | )
      नई पोस्ट तुम

      Delete
  11. बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  13. आदरणीय सर , बहुत सुंदर , धन्यवाद
    नया प्रकाशन --: तेरा साथ हो, फिरकैसी तनहाई

    ReplyDelete
  14. लाजवाब रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब प्यारभरी बानगी ...

    ReplyDelete
  16. सुंदर भाव सम्प्रेषण ....

    ReplyDelete
  17. Prem rang ki komal bhavnayen ... Sundar ...

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  19. सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  20. अच्छी ग़ज़ल.... आभार

    ReplyDelete
  21. खूबशूरत ग़ज़ल

    ReplyDelete
  22. Behtrin .. behad umda !!

    http://gazalajayki.blogspot.in/2013/11/blog-post_28.html

    ReplyDelete
  23. http://hindibloggerscaupala.blogspot.in/ २९/११/२०१३ दिन शुक्रवार की चौपाल पर आपकी रचना को शामिल किया जा रहा हैं कृपया अवलोकन हेतु पधारे .धन्यवाद

    ReplyDelete
  24. खूबसूरत नज़्म।
    सुन्दर उर्दू अलफ़ाज़।

    ReplyDelete