Wednesday, 19 November 2014

आईना !*



कभी किसी से कुछ नहीं कहता आईना
चुप रहकर भी सबकुछ कह देता है आईना !
बुरा हो या अच्छा हो ,सूरत या सीरत
उसका हुबहू तस्वीर दिखा देता है आईना !
आईना से कभी नहीं छुपता है कोई झूठ
चेहरे की रंगत देख,तस्वीर खींच देता है आईना !
गिरगिट सा हरघडी,कितना भी रंग बदले मन
चेहरे पर हर रंग का अक्स देख लेता है आईना !
भ्रम के चौराहे,भटकता मन देखता है जब आईना
मन को सही रास्ता दिखा देता है आईना |
घबराओ नहीं “प्रसाद” गर दिल तुम्हारा सच्चा है
तस्वीर भी खुबसूरत दिखा देता है आईना !
********************************
कालीपद “प्रसाद”
सर्वाधिकार सुरक्षित

11 comments:

  1. सच्ची अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. दर्पण झूठ न बोले...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. आईना जिंदगी के हकीकत को वयां करता है !
    बहुत खूब

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर गजल ,सच्चे दिलवालों की तश्वीर खुबसूरत दिखती है .

    ReplyDelete
  6. एक आइना ही है जो हर किसी की हकीकत जानता है ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  7. yah aaina hi to hota hai jo jhuth nahi bolta .....bahut sundar

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (23-11-2014) को "काठी का दर्द" (चर्चा मंच 1806) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  9. सच्चाई बयां करती रचना

    ReplyDelete