Friday, 23 August 2013

आभार !

१८ अगस्त २०१३ के पोस्ट के माध्यम से मैंने अपना ख़ुशी आपसे बांटा था कि ईश्वर  की कृपा से मुझे एक पौत्र और एक दौहित्री के रूप में ईश्वर का आशीर्वाद प्राप्त हुआ है.।  यह पोस्ट ईश्वर को धन्यवाद एवं आगंतुकों के स्वागत में प्रस्तुत कर रहा हूँ.। 


                      आभार !




क्या माँगू तुम से वरदान !
बिन माँगे ही दिया है अनूठा दान
यह आकाश ,यह बातास ,यह अँधेरा उजाला
और सदा धड़कती दिल की धड़कन।

कृपा सिन्धु हो तुम
कृपा किरण वर्षा करते हो
हम पर निश - दिन.।
किस रूप में मिलता मुझे
पता नहीं चलता मुझे कभी
किसी क्षण,किसी दिन.।

जब मन प्रसन्न होता है
फ़िजाएँ आस पास महकती हैं,
आभास होता है तुम्हारे आगमन का
आखें ढूढती  है तुम्हारे दीदार का,
तुम छुपे रहते हो यहीं कहीं
छुपकर तमाशा देखते हो
हम तुम्हे ढूंढ़ पाते कि नहीं।

आँखे नहीं ढूंढ़ पाते तुम्हे
पर दिल तुम्हे ढूंढ़  लेता है
जब श्री चरणों में सर रखता हूँ 
आँखें नम हो जाती हैं.।


             स्वागतम

सुबह सुबह मन-मयूरी नाच रही है
सुबह की हवा सन्देश दे गई है
अनुष्का हँस हँस कर कह रही है
मानो सहस्रभानु /सविता मेरे घर आ रहा /रही है.।

प्रभात में ज्यों होता है सहस्रभानु का उदय
साँझ ढले होता है शीत- रश्मि का उदय
दश और चौदह अगस्त के शुभघड़ी  में
वैसा ही हुआ मेरे घर में
कुलदीपक /कुलदीपिका का उदय। 

किस नाम से बुलाएँगे ,यह तो जाने मा-बाप
प्यारे पौत्र  और
प्यारी दौहित्री
दादा-दादी /नाना -नानी तुम्हे करते हैं स्वागत।

रब की इच्छा से आये  तुम
रब की इच्छा से उदित इस घरमे तुम
सदा उनकी इच्छा का पालन करना तुम
लगन से रब का काम करना तुम  ,
रब के काम से मुहँ न मोड़ना तुम ।

सौ वसन्त की लम्बी आयु हो,
हो ईश की कृपा किरण की वर्षा तुमपर
आशा ,विश्वास ,उमँग -तरंग भरपूर हो
अँधेरी छाया कभी न पड़े तुम पर.।
 यही आशीष देते तुम्हे प्यारे
दादा -दादी /नाना- नानी तुम्हारे
ईश्वर की कृपा बनी रहे
सब इच्छा तुम्हारी पूर्ण करे। 


शब्दार्थ :
अनुष्का=सूरज की पहली किरण
सहस्रभानु /सविता=सूरज
शीत- रश्मि= चन्द्रमा

कालीपद " प्रसाद "


© सर्वाधिकार सुरक्षित

43 comments:

  1. wah ! badhai fir say....ashirwad dene ki tarika rachna key dwara bahut khoob

    ReplyDelete
  2. हार्दिक बधाई आपको बाबा बनने के लिए |
    आशा

    ReplyDelete
  3. रचनाएं बहुत ही भावुक और सुंदर, बहुत बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. स्नेह भरा स्वागत दोनों का
    एक साथ दुगुनी ख़ुशी के लिए बहुत बहुत बधाई !
    शुभकामनाएँ दोनों को !

    ReplyDelete
  5. दोगुनी ख़ुशी ..वाह...बहुत बड़ा आशीर्वाद इश्वर का ...बहुत शुभकामनाये...आपको !
    बच्चों को अथाह स्नेह ,शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  6. बढ़िया प्रस्तुति
    आदरणीय काली प्रसाद जी
    शुभकामनायें-

    ReplyDelete
    Replies

    1. सर जी मंगल कामना, मना हर्ष उल्लास |
      दौहित्री सह पौत्र का, आना आये रास |
      आना आये रास, हुवे खुश बाबा नाना |
      ख़त्म हुआ अवकाश, व्यस्त हो गया जमाना |
      खेले कूदें साथ, चले अब अपनी मर्जी-
      पकड़ हाथ में हाथ, मजे से घूमो सरजी |

      Delete
    2. आदरणीय रविकर जी ! आपके काव्यमय बधाई और शुभकामनाओं के लिए आभार

      Delete
  7. खुशी से सराबोर कर गई
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय रविकर जी ! आभार

      Delete
  9. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  10. बहुत बहुत बधाई..

    ReplyDelete
  11. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शनिवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय रविकर जी ! आभार

      Delete
  12. बहुत सुन्दर...हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  13. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति. कमाल का शब्द सँयोजन
    कभी यहाँ भी पधारें

    ReplyDelete
  14. हार्दिक बधाई एंव शुभकामनाएं आपको बाबा बनने की।

    ReplyDelete
  15. आपको ढेरों शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  16. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. एक बार फिर से ढेरों शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  19. बहुत बहुत बधाई मेरी और से भी प्यार और स्नेह दे

    ReplyDelete
  20. हार्दिक बधाई एंव शुभकामनाएं बाबा और नाना बनाने की ....

    ReplyDelete
  21. इस शुभ समाचार के लिये आपको बहुत-बहुत बधाई तथा दोनों बच्चों को ढेर सारा आशीर्वाद एवँ शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  22. बेहतरीन रचनावों के साथ आपको बधाई..

    एक साथ दो-दो खुशियां,
    आपको बहुत मुबारक हो ।
    मेरी दिल से यही कामना,
    खुशियों की सदा ही आवक हो ॥

    ReplyDelete
  23. बहुत ही बेहतरीन रचनाएँ...
    बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएँ..
    :-)

    ReplyDelete
  24. बहुत बहुत बधाई और शुभकामना !!

    ReplyDelete
  25. आँगन के ये नए फूल, पल-पल सुख-सौरभ बिखरायें !

    ReplyDelete
  26. अरे वाह बहुत-बहुत बधाई हो ...

    ReplyDelete
  27. बधाई दो दो रचनाओं के लिए .धेवताई पाई पाया प्रसाद .दोनों अप्रतिम रचनाएं हैं ईश्वर की हैं दोनों .तेरा तुझको अर्पण ....क्या लागे मेरा .

    ReplyDelete
  28. आभार !
    कालीपद प्रसाद

    शुक्रिया आपका आपकी टिप्पणियों के लिए प्रभु का अनुकम्पा के लिए। मुबारक धेवताई।

    मेरे विचार मेरी अनुभूति

    ReplyDelete
  29. आदरणीय कालीपद प्रसाद सर, आपको पुनः अनेकोनेक बधाई !

    ReplyDelete
  30. बहुत बहुत बधाई
    शब्दों की मुस्कराहट परआपका स्वागत है ..... ज़रूर आईये

    ReplyDelete
  31. बहुत अच्छी रचना .. बधाई ..

    ReplyDelete
  32. .

    ईश्वर की कृपा बनी रहे !
    तथास्तु !

    आदरणीय कालीपद प्रसाद जी
    बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  33. बहुत बहुत बधाई..नामकरण हो जाये तो नाम भी बताएं...

    ReplyDelete
  34. वाह ..
    बधाई और चन्दा सूरज को हार्दिक आशीर्वाद..

    ReplyDelete
  35. आँखें नहीं ढूंढ पाती तुम्हे
    दिल तुम्हे ढूंढ ही लेता है
    जब श्री चरणों में सर रखता हूँ
    आँखें नम हो जाती हैं

    सुंदर ...भक्ति प्रधान भजन ..प्यारी रचना
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
    Replies
    1. नन्हे खिले पुष्प के लिए ढेर साऱी शुभ कामनाएँ और बधाई आप को बाबा बनने पर
      भ्रमर ५

      Delete
  36. बहुत खूब लिखा है। शुक्रिया आपकी टिपपणी का।

    ReplyDelete