Sunday, 3 March 2013

होली

चित्र गूगल से साभार 


आई होली का त्यौहार                     झूमे मस्ती में ग्वालबाल
                          उड़े हवा में  गुलाल।
होली मस्ती  का त्यौहार              है रंगों का बहार 
                      नीले  ,पीले ,हरे और लाल।
मन में  भरा उमंग तरंग            नाचे सब संग संग
                      जोरसे बोले जय कन्हैया लाल।

गोप नाचे  गोपी नाचे              गाँव के बाल वृद्ध नाचे
                    नन्द नाचे  और नाचे नन्दलाल।
ढोल बाजे मृदंग बाजे              बाजे खोल करतल
                   झूम उठे वृदावन  ,सब है बेहाल। 
कोई मारे पिचकारी                कोई  मले  गुलाल
             रंग में डूबे ऐसा लगे, सब है नंदलाल। 


नटखट है यशोदा लाल          मले फ़ाग गोपियों के गाल 
              गोपियाँ ना  पकड़ पाय कभी, हरि।
भर भर कर पिचकारी            मारे गोपियाँ,  मारे  मुरारी
          भीगे सब साथ साथ, नहीं गोपियाँ एकाकी।
तन भीगे मन भीगे               भीगे चुनरी और चोली
     गोपियां भी मजे लेकर करती हरि  से ठिठोली।


राधारानी है  खड़ी अकेली         हाथ में लिए मोहन की मुरली
                   आँख में लिए सूरज का अंगार।
देखे कृष्ण को बार बार            नटखट कृष्ण जाने संसार
         कनखियों से देखे राई को मुस्कुराकर।

गुस्से में राई  तिलमिलाकर          खड़ी हो गई मुहँ  मुड़कर
                            लेकर गुलाबी गाल।
चतुर छैला  कृष्ण कन्हैया       पीछे से आकर
             मल  दिया गाल पर गुलाल।   

मारी पिचकारी                 भीगी राधा रानी
            डाले रंग ,राधे पर ,गोप गोपी।
राधे का अभिमान           कृष्ण किया भंग
                मन का अंगार हुआ शांत।
 होली का त्यौहार             त्याग मन का हलाहल
            नाचे गोप गोपी राधाकृष्ण संग।

झूले में बैठा कर          करे पुष्प-वर्षा राधाकृष्ण पर
               हर्षाये सब मन ही मन।
झुलाये गोप गोपी         झूले राधा रानी
             लेकर संग देवकी नन्दन।  


रचना : कालीपद "प्रसाद"       
 ©सर्वाधिकार सुरक्षित


30 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  2. फगुआ रंग... कृष्ण संग राधा और गोपियों की टोली... अहा बहुत खूबसूरत छटा. सुन्दर और भावप्रवण रचना के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  3. रंग जम रहा है होली का-
    शुभकामनायें आदरणीय-

    ReplyDelete
  4. BlogVarta.com पहला हिंदी ब्लोग्गेर्स का मंच है जो ब्लॉग एग्रेगेटर के साथ साथ हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट भी है! आज ही सदस्य बनें और अपना ब्लॉग जोड़ें!

    धन्यवाद
    www.blogvarta.com

    ReplyDelete
  5. वाह अपने तो अलग अलग रब्गों में ब्लॉग रचना को सजा के होली का एहसास दिला दिया ...
    भावपूर्ण रचना ... होली का उलास लिए ...

    ReplyDelete
  6. अहा, बहुत सुन्दर प्रवाह..

    ReplyDelete
  7. होली आई रे कन्हाई रंग बरसे भिजा दे मुझे सांवरे |


    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  8. वाह बहुत सुंदर ....

    ReplyDelete
  9. सुंदर रचना
    बधाई

    ReplyDelete
  10. VICHARON KA SUNDAR PRAVAH ,AAGT KA MADHUR SANKET,

    ReplyDelete
  11. kalipad ji bahut hi sundar holi ka chitran..padhte padhte jaise poora drishya hi aankho ke saamne prateet hua ...kyuki mera bhi krishna se vishesh lagaav hai to mera to padhte padhet hi gaane ka man ho aaya aapka ye holi geet ...bahut sundar aur utsaah bharti prastuti ... aur aap mera bhajan nahi sun paaye iske liye maafi chahti hun kintu baaki sabhi log sun paa rahe hain waha krishna ki tasveer ke upar jo widget laga hai usmei play ke button par clik karna hai ek bar koshish karke dekhiye

    मेरा लिखा एवं गाया हुआ पहला भजन ..आपकी प्रतिक्रिया चाहती हूँ ब्लॉग पर आपका स्वागत है

    Os ki boond: गिरधर से पयोधर...

    ReplyDelete
  12. bahut sundar...laga jaise main vrindawan ki holi dekh rahi hun...

    ReplyDelete
  13. आहा ! तन मन रंग गया हमारा भी

    ReplyDelete
  14. अनुपम भावों का संगम ...

    ReplyDelete
  15. ब्लॉग पर आने एवं अमूल्य टिप्पणी देने केलिए आप सबको धन्यवाद और होली की अग्रिम शुभ कामनाएं !

    ReplyDelete
  16. wah ji wah! sara watavaran krishnmay ho gaya. Holi kii subhkamnayen.
    neeraj'neer'
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)

    ReplyDelete
  17. होली के पहले ही आपने होली की धूम मचा दी,,,,,बहुत बढ़िया ,,,होली गीत,,,

    Recent post: रंग,

    ReplyDelete
  18. मंगलवार 26/03/2013 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं .... !!
    आपके सुझावों का स्वागत है .... !!
    धन्यवाद .... !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद !आदरणीय विभारानी जी !

      Delete
  19. इस पोस्ट पर पहले भी टिपण्णी की थी .शुक्रिया आपकी सद्य टिप्पणियों का .

    ReplyDelete
  20. Waah....Lovely creation !

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर और रोचक...

    ReplyDelete
  22. holi.................by ..................jindgee

    ReplyDelete
  23. holi ka maza....holi ke pehle ap hi dila sakte hain....

    ReplyDelete
  24. लाजवाब रचना...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  25. भावों का अनुपम संगम बधाई

    ReplyDelete
  26. होली के रंगों से वो भी कान्हा की होली के रंगों से आपने सराबोर कर दिया। जय हो! बधाई स्वीकारें!
    होली की शुभकामनायें!

    ReplyDelete