Sunday, 28 April 2013

जीवन संध्या

 इंसान इस दुनियां में कहाँ से आता है ,मृत्यु के बाद कहाँ जाता है ,यह एक रहस्य है। पर जितना दिन यहाँ रहता है ,रिश्ते  नातों  में बंध  जाता है।सबको छोड़कर जाने में उसे दुःख होता है लेकिन जाना तो  है।  हर जाने वाला व्यक्ति ,पीछे रहनेवाले लोगो को अपनी अनुभव की कुछ बाते बता कर जाना चाहता है। ऐसे एक मुमूर्ष व्यक्ति की  अंतिम इच्छा है यह।






संध्या   से   पहले   भी  कभी,
                             सवेरा   हुआ  था,
अमानिशा के पहले भी कभी  ,
             पूर्णमासी का चाँद खिला था।
सूरज का अंतिम किरण है यह ,
                            जो सवेरे  उगा था ,
उद्दीप्त शिखा देख रहे हो, जिस  दीपक का तुम
यहीं इसका  जीवन-दीप जला    था।।

संध्या को  इस दीप को बुझाकर ,
                            सौ-सौ दीप जलाना है।
अमानिशा में चाँद को मिटाकर
                     असंख्य मोती चमकाना है।
प्रभात तारा चमक रहा है अब
                       बनकर संध्या का तारा।
मृत्यु मना रही महोत्सव आज ,देख
                 अस्तमित जीवन का शुक तारा।


 विदा कर दो मुझ को ऐ वन्धु
                    अब है  जीवन का अंतिम वेला।
चल रहा हूँ इस दुनियां से अब
                       जहाँ देखने आया था मैं मेला।
इस जनम में हो ना सका वन्धु
                                  कुछ उपकार तुम्हारा।
पुनर्जनम में  विश्वास हो तो ,
                             होगा मिलन मेरा तुम्हारा।


मेरी सौगंध तुमको ,मेरे लिए
                                  यदि तुम आहे भरो,
मधुर मुस्कान बिखेरो एकबार
                            आंसुयों  से ना आंखें भरो।
आसुयों के एक बूंद की कीमत
                                         मैं ना दे पायूँगा,
सिसकियों से भरी आहों को
                                     मैं ना गिन पाऊंगा।



रचना : कालीपद  "प्रसाद'
            सर्वाधिकार सुरक्षित
 
    




46 comments:

  1. एक बड़ी यात्रा चलती यह,
    हम छोटे सहभागी से।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Sexy Desi Indian girlfriend Mansi kissing and hardcore fucked with her lover nude photos at home


      Desi Punjabi College Girl With Her boyfriend sex pics


      Sunny Leone Erotic Poses Spreading pussy Seducing porn Tube


      Pakistani Lahore girl showing her hairy pussy hole nude photo


      Mumbai Newly Married Bhabhi Sexy Shots 3 video


      Mumbai Newly Married Aunty Sexy Shots : 50 PICS


      Surabhi Aunty Hot pose Bedroom Erotic Collection


      Desi School Girl Nude Images Exposing Big Juicy boobs and Pussy


      Arab Girls have Big Ass : Perfect shaped Arab girls Rare Fucking Image


      Desi Indian maid girl fully nude bath at bathroom nude photos


      Hot sexy Arab girl strip clothes and showing her tits Pussy hole nude photos


      Bangladeshi husband and Wife in Bedroom having sex pics


      Tamil House Wife Open Her Pussy And Fingering


      Nagma Full Nude Image Showing Big boobs and Pussy


      Sweet actress Alia Bhatt showing her hot big boobs pics and Shaved Pussy


      Japani College Girl Having Sex with her teacher


      Katrina Kaif Enjoying Going Totally Naked and Getting Fucked by a Foreigner Man Enjoying His Lund Inside Her Tight Ass


      Hot Telugu Aunties Big Ass Fucking And Wet Pussy Hidden Cam Video


      Muslim Girl First Time Sex Video Captured By Her Boy Friend


      Pakistani Aunty Farzana Caught While She Sex With Her Son Friend


      Indian Mallu Aunty And Bhabhi Penis Sucking Blowjob 100 Plus Wallpapers


      Porn Star Priya Rai Boobs Fucking Porn tube


      Anushka Sharma Totally Nude Enjoying Cock Penetration in Her Wet Pussy


      Veena Malik Nude Showing Her Pussy And Soft Boobs Photos


      Hina Khan Doing Sex With Her Driver


      Tamil Village Aunties Fucking P)hotos in Saree


      Sexy Pakistani aunties pussy photo Gallery Cute Sexy Girls Boobs Fucking


      Sunny Leone Doing Group Sex In Toilet


      Dellhi Poor Girl Fucking On Camera For Money


      Pakistani Sexy Bhabhi Remove Bra Showing Big Milk


      Desi Mallu Bhabhi Open her Dark Pussy And Big Fat Ass

      Delete
  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.आज ही आपका ब्लॉग का अनुशरण किया.

    ReplyDelete
  3. wah ! bahut sundar shabd rachna....mrityu jeevan ka sabse bada sach

    ReplyDelete
  4. सुंदर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  5. बहुत भावपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर ...भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  7. इस दुनिया में प्रवेश मेले में प्रवेश कहना अत्यंत सार्थक। हमें इस बात को ध्यान रखना है। कविता से उसको याद दिलाया जा रहा है।

    ReplyDelete
  8. संध्या का अँधेरा नए प्रभात का सन्देश भी देता है. सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति और विचारों की सार्थकता.
    इस सुंदर प्रस्तुति के लिये बधाई.

    ReplyDelete
  9. आपका ब्लॉग भी मैं ज्वाइन कर रही हूँ.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक स्वागत है और ब्लॉग में पदार्पण के लिए आभार !

      Delete
  10. आपका ब्लॉग भी मैं ज्वाइन कर रही हूँ.

    ReplyDelete
  11. आपका ब्लॉग भी मैं ज्वाइन कर रही हूँ.

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया,भावपूर्ण सार्थक प्रस्तुति !!!

    Recent post: तुम्हारा चेहरा ,

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर और भावभीनी रचना....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  14. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 29/04/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. सुन्दर भावों से भरी रचना !!

    ReplyDelete
  16. भाव पूर्ण सार्थक रचना..

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सुंदर रचना.....जिन्दगी के सच्चाई को लिए हुए.

    ReplyDelete
  18. उदासी लिए हुए ..भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  19. जीवन है ही ऐसा |जीवनयात्रा पूर्ण करते हुए न जाने क्या क्या देखना सुनना पड़ता है |बहुत गंभीर और मन को छूती रचना है |
    आशा

    ReplyDelete
  20. waah jivn ki sacchai belag bta di ....

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर रचना | बधाई

    ReplyDelete
  22. मृत्यु जीवन का अंत नहीं एक नई शुरुआत भर है..बहुत गहरे भाव !

    ReplyDelete
  23. आना जाना जीवन है, जो आया है वह जाएगा... मृत्यू का मोह रिश्ते नातों के हर बंधन तोड़ देता है... गहन अभिव्यक्ति... आभार

    ReplyDelete
  24. गहन संवेदनाओं से सिंचित एक प्रभावशाली एवँ भावपूर्ण प्रस्तुति ! अति सुंदर !

    ReplyDelete
  25. गहन भावों को समेटे हुये अच्छी रचना

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार के "रेवडियाँ ले लो रेवडियाँ" (चर्चा मंच-1230) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
    एक निवेदन-
    कृपय अपने ब्लॉग से ताला खोलिए, जिससे चर्चा के लिए मैटर सलेक्ट करके कॉपी किया जा सके...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. चर्चा मंच में मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपको धन्यवाद रूप चन्द्र शास्त्री जी!

      Delete
  27. बहुत खूब |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  28. भावपूर्ण अभि‍व्‍यक्‍ति..

    ReplyDelete
  29. संवेदना के धरातल से उठती भावपूर्ण अभिव्यक्ति
    गहन अनुभूति की सहज रचना
    सार्थक
    उत्कृष्ट प्रस्तुति


    आग्रह है इसको भी पढें
    कहाँ खड़ा है आज का मजदूर------?

    ReplyDelete
  30. सुंदर रचना भाव पूर्ण ......

    ReplyDelete
  31. निःशब्द करती

    ReplyDelete
  32. बहुत सुंदर रचना ---आज ही आपके ब्लॉग का अनुसरण किया --

    ReplyDelete
  33. बहुत खूब ...सार्थक रचना

    ReplyDelete
  34. आखिर अंतिम पडाव पर यह समझ आता है कि यह जीवन एक मेला था, काश यह शुरूआत से समझ आ सकता तो जीवन जीने का ढंग ही कुछ ओर होता, बहुत ही सुंदर विचार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  35. भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  36. हर संध्या से पहले सवेरा होता है; अंतिम वेला से पहले... जीवन जैसे खूबसूरत मृत्यु भी हो... भावपूर्ण रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  37. बहुत प्यारे से जज़्बात लिए खूबसूरत रचना

    ReplyDelete