Sunday, 16 February 2014

प्रिया का एहसास

पिछले एक़  महीने से नियमित रूप से ब्लॉग पर आ नहीं पा रहा हूँ ,कुछ लिख भी नहीं पा रहा हूँ l परन्तु आज का दिन खास है ! जीवन साथी का जन्म दिन है l कुछ नया  लिखने का समय नहीं मिला l अतीत में लिखे कुछ पंक्तिया पेश करता हूँ l


जीवन भर का साथ

जीवन के मरुस्थल में प्रिये तुम ही प्याऊ हो ,
नीरस जिंदगी में तुम मधुमय  रस हो,
टूटते लय की  जिंदगी में  तुम जीवन संगीत हो 
महक हीन मेरी जिंदगी में मधुर महक हो l

तुम्हारा मधुर मुस्कान निराशा में आशा है 

रसीला स्वर तुम्हारा मृतसंजीवनी है 

वायु है ,जल है प्रिये,, है खुशबु तुम्हारा 
तभी तो तुम्हारे होने का मुझे एहसास है.
सावन की बौछारें ,वसन्त की हवाएं लेकर खुशबु तुम्हारा
हौले हौले तन को भीगाकर, मन को महका जाता है !
मेरे बेचैन मन की चैन तुम हो,सुप्त अचेतन मन की चेतना  हो ,
अविरल स्पंदित   मेरे दिल का तुम स्पंदन हो,
क्या कहूँ   शब्दों में , एहसास करो, कि  तुम मेरे क्या हो ?



रचना : कालिपद "प्रसाद " 
© All rights reserved (सर्वाधिकार सुरक्षित)

55 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (16-02-2014) को वही वो हैं वही हम हैं...रविवारीय चर्चा मंच....चर्चा अंक:1525 में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार शास्त्री जी !

      Delete
  2. वाह ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  3. आदरेया जी के जन्म दिन की हार्दिक बधाइयाँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार राजेंद्र जी !

      Delete
  4. सुन्दर प्रेमाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  5. 'तुम और मैं ' दोनों ऐसे ही साथ निभाते आनन्द पूर्ण-दीर्घ जीवन यात्रा के सहयात्री बने रहें !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत आभार प्रतिभा जी !

      Delete
  6. बहुत सुन्दर प्रेम से सराबोर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  7. wah bahut sundar prem mey pagi panktiyan

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर.
    हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  9. आप दोनों को सुखमय जीवन की बधाई और शुभकामनायें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बधाई और शुभकामनाओं के लिए आभार प्रवीण जी !

      Delete

  10. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन दादासाहब की ७० वीं पुण्यतिथि - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  11. मुश्किल होता है कुछ रिश्तों को बयाँ कर पाना ... सुन्दर भावमय रचना ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने ,रिश्तों को बयां करना मुश्किल है ! आभार आपका !

      Delete
  12. जीवन में आपको मिले, पग-पग ख़ुशी अपार !
    यही कामना करते हे हम ईश्वर से हर बार!!

    जन्म दिवस मुबारक हो !
    डॉ. सारिका मुकेश

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी हार्दिक शुभकामनाओं के लिए बहुत बहुत आभार सारिका मुकेश जी !

      Delete
  13. सुन्दर अभिव्यक्ति...
    बहुत-बहुत बधाई....
    :-)

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्फर अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .

    ReplyDelete
  16. मन के भावो की बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति। प्रभु से आप दोनों के मंगलमय जीवन की कामना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी शुभकामनाओं के लिए हार्दिक आभार भगीरथ जी

      Delete
  17. सुन्दर उदगार .... आपकी प्रिया को जन्मदिन की बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी शुभकामनाओं के लिए हार्दिक आभार संगीता स्वरुप जी !

      Delete
  18. भाभी जी को बहुत बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी शुभकामनाओं के लिए हार्दिक आभार विभारानी जी !

      Delete
  19. भाभी जी को जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें .....

    ReplyDelete
  20. भावपूर्ण रचना.

    ReplyDelete
  21. +वाह! माधुर्य के साथ ही कुछ नए प्रतीक भी हैं !

    ReplyDelete
  22. बढ़िया रचना-
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
    Replies
    1. पधारने के लिए हार्दिक आभार

      Delete
  23. बहुत सुन्दर भावपूर्ण
    जन्मदिन की बधाई व हार्दिक शुभकामनाएँ !
    सादर !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी शुभकामनाओं के लिए हार्दिक आभार शिवनाथ जी

      Delete
  24. जन्मदिन पर बड़ा ही खूबसूरत उपहार कविता के रूप में दिया है.उन्हें हमारी भी शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  25. आपकी शुभकामनाओं के लिए हार्दिक आभार अल्पना जी !

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर विचार है शुभकामनायें. हमारे ब्लॉग पे भी कृपया पधारे !!!
    http://kuchankahisibaat.blogspot.in

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर विचार है शुभकामनायें. हमारे ब्लॉग पे भी कृपया पधारे !!!
    http://kuchankahisibaat.blogspot.in

    ReplyDelete
  28. sneh se bhari sunder rachna, janamdin to nikal gaya fir bhi shubhkmanyen to de hi sakte hain :)

    shubhkamnayen

    ReplyDelete