Monday, 13 October 2014

खुदा है कहाँ ?**

मन जब चंचल होता है ,भटकता है यहाँ वहाँ
ढूंढ़ा तुझको सारे जहाँ ,पता नहीं तु छुपा है कहाँ |

वन में ढूंढ़ा ,पर्वत में ढूंढ़ा ,ढूंढ़ा बाग़ बगीचे में
दिल को कुछ शुकून मिला ,फूलों में ताजगी जहाँ |

इंसानों में तो नफ़रत भरा है ,नफ़रतों में तू  कहाँ
कुछ एहसास हुआ मुझ को ,दिल में है प्यार जहाँ |

प्रेमी चालाक ,प्रेमिका चतुर ,प्रेम में वो वफ़ा कहाँ
तेरा एहसास होता है वहाँ ,प्यार में सादगी जहाँ |

पूछा तेरा पता हर प्राणी ,हर खुदाई से यहाँ
मूक संकेत मिला मुझे ,तू  है ,खिला नव पल्लव जहाँ |

निश्छल हँसी बच्चों में ,सुमन के सौरभ जहाँ
तेरा दर्शन तो नहीं हुआ,पर तू मिले मुझ से वहाँ |

तू है यहीं कहीं मेरे आस पास ,मानते है सारे जहाँ !
दीदार को दिल दीवाना है ,एहसास है पर दीदार कहाँ ?


कालीपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित



12 comments:

  1. जहाँ सत्य है, शिव है, सुन्दर है, जहाँ करुणा है, दया है, निस्वार्थ प्रेम है, जहाँ परोपकार है और अहम का बलिदान है वहीं खुदा, इश्वर, या गॉड है ! सुन्दर सार्थक प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  2. बेहद खुबसूरत अभिव्यक्ति ..... उम्दा रचना

    ReplyDelete
  3. हर शेर नए अर्थ लिए ... सच्चाई बयां करते हुआ ....
    बधाई इस ग़ज़ल की ...

    ReplyDelete
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सार्थक रचना

    ReplyDelete
  6. साथ रहता है पर मिलता नहीं !

    ReplyDelete
  7. अति सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति .......

    ReplyDelete
  9. अनुपम प्रस्तुति....आपको और समस्त ब्लॉगर मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    ReplyDelete