Sunday, 2 November 2014

तुझे मना लूँ प्यार से !**





चाहता हूँ ,तुझे मना लूँ प्यार से
लेकिन डर लगता है तेरी गुस्से से !
घर मेरा तारिक के आगोश में है
रोशन हो जायगा तेरी बर्के-हुस्न से !
इन्तजार रहेगा तेरा क़यामत तक
नहीं डर कोई गमे–फ़िराक से !
मालुम है कुल्फ़ते बे-शुमार हैं रस्ते में
इश्क–ए–आतिश काटेगा वक्त इज़्तिराब से !
हुस्न तेरी बना दिया है मुझे बे-जुबान
बताऊंगा सब कुछ ,तश्ना–ए–तकरीर से |

शब्दार्थ : तारिक=अन्धकार ,अँधेरा ; बर्के हुस्न=बिजली जैसी चमकीला सौन्दौर्य : गमे –फ़िराक=विरह का दुःख : इश्क –ए –आतिश =प्यार का आग : इज़्तिराब से=व्याकुलता से : तश्ना –ए – तकरीर=प्यासे होंठो से 

कालीपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित

14 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (03-11-2014) को "अपनी मूर्खता पर भी होता है फख्र" (चर्चा मंच-1786) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. आपका आभार डॉ रूपचंद्र शास्त्री जी ! श्रीमती जी अस्वस्थ है इसीलिए ब्लॉग पर नियमित रूप से आ नहीं पा रहा हूँ |

    ReplyDelete
  3. शब्दों को समझने की कोशिश की है ,दिये हुए अर्थ का सहारा ले कर .

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब ... उनके गुस्से से तो हर कोई डरता है ...

    ReplyDelete
  5. हुस्न तेरी बना दिया है मुझे बे-जुबान
    बताऊंगा सब कुछ ,तश्ना–ए–तकरीर से
    बेहतरीन
    जय हिन्द

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  9. बहुत बढिया लिखा है। शब्दों के अर्थ से बहुत सहारा मिला है।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  11. प्रगाढ़ अनुभूति सूफियाना इश्क की .सुन्दर मनोहर .

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ! शास्त्रीय उर्दू का स्वागत !

    ReplyDelete