Friday, 4 March 2016

दोहे !




कोई नहीं सुखी यहाँ, राजा हो या रंक
प्रजा से दुखी राजा, राज-जुल्म से रंक ||1||
वक्त कभी रुकता नहीं, सुख-दुःख विराम हीन
ख़ुशी में मन आनान्दित, दुख में मन है मलिन ||२||
सुख-दुःख नहीं अलग चीज़, सुख का हिस्सा है दुःख
सुख ज्यादा, दुःख कम कभी, सुख न्यून, ज्यादा दुःख ||३||
सुख गैरहाजिर है तो, दुःख होत है हाज़िर
सुख जब प्रबल होत है, दुःख है गैर हाज़िर ||४||
कर्मचक्र चलता सदा, कर्म में बंधे जीव
कृत्य से मिलती मुक्ति, कर्म मुक्ति की नीव ||५||
पशु पक्षी मूक जीव है, पर उनमें हैं समझ
जीव में मानव श्रेष्ठ, है स्वार्थी नासमझ ||६||
समझना चाहते नहीं, समझ के बावजूद
स्वार्थी बनकर आदमी, गंवाता है वजूद ||७||

  कालीपद ‘प्रसाद’
© सर्वाधिकार सुरक्षित

7 comments:

  1. Looking to publish Online Books, in Ebook and paperback version, publish book with best
    self publisher India

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (06-03-2016) को "ख़्वाब और ख़याल-फागुन आया रे" (चर्चा अंक-2273) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. यह दोहे नहीं हैं। दोहा छन्द का अध्ययन कीजिए मित्र।

    ReplyDelete
  4. Sunder lines...
    Mere blog ki new post par aapke vichro ka intzaar hai.

    ReplyDelete
  5. शानदार पोस्ट सर

    ReplyDelete