Friday, 29 July 2016

बौन्साई

                                                               



                                                                     
गुगल से साभार 




               इन्सान स्वार्थ में पेड़ों की अंधाधुंध कटाई कर रहे हैं जिससे वातावरण में प्राण बायु की कमी तो हो ही रही है साथ में मौसम भी अनियमित होने लगा है | समय परवर्षा न होना, आंधीतूफान, अधिकगरमी, अधिक ठण्डा होना सब प्रकृति में असंतुलन के कारण हो रहा है| इन्सान अपना शौक पूरा करने के पौधों को बोनसाई बनाकर गमले में लगा लिया है| ऐसा ही एक बन्साई पौधा इन्सान को कह रहा है--

युगों युगों से देते आये हैं
जीवन वायु तुम्हे ,
किन्तु मानव ! तुम अकृतग्य हो
कभी नहीं समझे हमें |
था मस्तक हमारा इतना ऊँचा
मानो, चाहते नभ को छूना
काट छाँट कर हमें तुमने
बना दिया पेड़ छोटा बौना |
उखाड़ कर रख लिया हाथ में
चाहते हो क्या दिखाना ?
हम न जिन्दा रहेंगे तो
मुश्किल होगा तुम्हारा जीना |
मानव हो ! समझो तुम
दानव जैसा काम न करो,
किया जो किया, भूल जाओ
हरदिन अब पेड़ का सेवा करो |
काटो ना एक भी पेड़ अब
जंगल का संरक्षण करो
वनस्पति ही जीवन का आधार है
उसका सदा संवर्धन करो |

कालीपद ‘प्रसाद’

1 comment:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (31-07-2016) को "ख़ुशी से झूमो-गाओ" (चर्चा अंक-2419) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete