Saturday, 6 April 2019

गीतिका

लावणी छंद
इंसान को बनाकर थकान से भगवान सो गया था
जगकर देखा मनुष्य का सब, रूप, रंग बदल गया था |

कर्तव्य का अर्थ स्वयं स्वार्थ में, मर्ज़ी से बदल दिया
एक पिता के थे सब भाई, अलग धर्म में बंट गया था |

कोई हिन्दू, मुस्लिम कोई, ईशाई जैन पारसी
अनेक धर्म अनेक मतों में, इंसान बिखरा गया था |

एक पिता को बाँट लिया था, ईश्वर खुदा के नाम से
राम रहीम की लड़ाई में, स्नेह प्यार बंट गया था |

धर्म को बना ढाल पुजारी, रब नाम से ठगने लगे
घोखा खाकर बार बार नर, धर्म खिलाफ हो गया था |

मैं अल्ला हूँ, या ईश्वर हूँ, भ्रान्ति में थे सृष्टि कर्ता
सोच रहा था मानव गढ़ कर, उनसे भूल हो गया था |

कालीपद 'प्रसाद'

4 comments:

  1. बढ़िया पोस्ट

    ReplyDelete
  2. शुक्रिया राकेश गुप्ता जी

    ReplyDelete
  3. मैं अल्ला हूँ, या ईश्वर हूँ, भ्रान्ति में थे सृष्टि कर्ता
    सोच रहा था मानव गढ़ कर, उनसे भूल हो गया था |
    बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  4. सादर आभार आ ज्योति देहीवाल जी

    ReplyDelete