Saturday, 16 November 2019

ग़ज़ल


        तरही ग़ज़ल 
जिस राह से भी’ गुजरा है कारवाँ हमारा
भारत वतन वही है, हिन्दोस्तां हमारा |

ऐ पाकि, चीन सुनलो हिन्दोस्तां हमारा
अब भूलकर कभी ना लो इम्तिहाँ हमारा |

हर डाल पर बसा पंछी देश का दुलारा
हर डाल पर बसेरा है, आशियाँ हमारा |

तैनात शूरवीरों की फ़ौज सरहदों पर
भारत के पासबाँ जो, वो पासबाँ हमारा |

हम है अनीक, भारत की भक्ति है दिलों में
आसां नहीं मिटाना नाम-ओ–निशां हमारा | *

सारे जहां है’ वाक़िफ़ हिन्दोस्तां की’ गरिमा
अब तुम भी’ जान लो गौरव दास्ताँ हमारा |

उस म्यानमार से इस गुजरात तक हमारे
कश्मीर की हवा, धरती आसमां हमारा |

कश्मीर का विलय ‘काली’ फायदा किया है
अब भेद भाव ना झगडा, दरमियाँ हमारा |

 कालीपद 'प्रसाद'

7 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (17-11-2019) को     "हिस्सा हिन्दुस्तान का, सिंध और पंजाब"     (चर्चा अंक- 3522)    पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर शुक्रिया आ रूपचंद्र शास्त्री जी

      Delete
  2. देश प्रेम से ओत प्रोत मन में जोश का संचार करती बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल है आदरणीय
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आ अनिता सैनी जी

      Delete
  3. वाह बहुत सुंदर देशभक्ति से सराबोर अभिनव अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आ मन वीणा जी

      Delete
  4. Best Scratchcards from Merkur - Shootercasino.com
    Scratchcards from Merkur. You can use these scatters from 메리트카지노 all the available Scratchcards 우리카지노 at Shootercasino.com, including their ทางเข้า m88 free Scatter

    ReplyDelete