Friday, 22 March 2013

भक्तों की अभिलाषा



राम   रहीम . ईश्वर  अल्लाह .  पूरी कायानात में एक ही ईश्वर के अलग अलग नाम है .हर धर्म का मूल मंत्र भी यही है . जिसे हम धर्म कहते है ,वास्तव वह में वे सब अलग अलग पथ है उस परमेश्वर तक पहुँचने के लिए .धर्म तो एक ही है ,मनुष्य धर्म ,,,,,,,,,,,, मनुष्य मनुष्य में प्रेम का भाव फैलाते हुए ऐसा काम करना जिस से हम ईश्वर को खुश कर सके। लेकिन कुछ स्वार्थी  तत्व अपने स्वार्थ के लिए भोलीभाली भक्तों को गुमराह करते है और अलग अलग  धर्मो में लड़ाई झगडा करवाते है .क्या  इस से ईश्वर  ,अल्लाह खुश होते हैं Æ 
                    



            Ba@taoM kI AiBalaaYaa


ihndu:       “maisjad kao taoD,nao kI
            Sai@t dao ho² [-Svar.”
mausalamaana:   “Allaah maohrbaana hao
             Kak maoM imalaa du^
             maMidr kao taoDkar.”
 नास्तिक       ihndu nao p`aqa-naa kIÊ
                 mauslaIma nao duAa maa^gaIÊ
                 ApnaI ApnaI saflata
                 ko ilae [-Svar Allaah sao.

Ba@taoM kI AMQaa Bai@t doK kr,
]nakI ivanaaSakarI [-rada jaanakr,
[-Svar­ Allaah Ba`imat hue
nahI ptaÊ  KuSa yaa naaraja hueÊ
pr maMidr maisjad daonaao TuT gaeÊ
[-Svar ­Allaah daonaao baoGar hue
ihndu mauislama KuSa hue.

KuSa ² ha^ KuSa hI tao hue
daonaao nao ApnaI ApnaI
saflata kI kamanaa kI qaI
daonaao safla hue  AaOr
Apnao Apnao AaraQya kao
KnDhr maoM laakr KDa ike.
            laoikna²
            taD,nao vaalaao ² jara zhrao²
            jara puCao Apnao KUda sao
            AaOr pUCao Apnao [-Svar sao
            Agar [nho tuD,vaanaa hI qaa
            tao @yaaoM banavaayaa qaa
            Apnao AnauyaayaI saoÆ

            [-Svar ­Allaah @yaa tora hI naamaÆ
            yiad ha^²
            tao AnauyaayaI toro @yaaoM hO naadanaÆ
            @yaaoM nahI dota [nho
            sauvauiQd AaOr idvya&ana Æ
            @yaaoM nahI batlaata [nho ik
            tu hI rhIma AaOr tu hI rama.

jaat pat }^ca naIca ka
ivaYa fOlaanao vaalaoÊ
dUsaraoM kao naaistkÊ kafIr
khnao vaalao
rama rihma ko naama sao
samaaja kao TukD,,ao maoM
baa^Tnao vaalaoÊ
toro hI naama sao tuJao
QaaoKa donao vaalaoÊ
@yaa sacamauca Ba@t hOM yao toroÆ

yao naadana hOM¸ naasamaJa hOM,¸
saMkuicat hOM [nako ivacaar¸
KUd hI Ba`imat hOM @yaa kroMgao
tora maihmaa p`caarÆ
                      
           balaI kao praijat ikyaa qaa
           tu nao baamana banakr
           AaiSavaa-d idyaa ]sao
           Paatala jaaAao pa^ca &anaI laokr.
           ho [-Svar²
           balaI gayaa patala &ainayaaoM ko saaqa
           AaOr rh gayaa tu Qara pr
           saaO kraoD, mauKao- ko saaqa.

mauK- jaao tuJao dovata samaJaa
isaf- ima+I AaOr p%qar kaÊ
inaja-Iva mautI- baMd maMidr ka¸
AaOr KUda samaJaa
KalaIpna maisjad ka¸
ijasaka AiQakar isaf- [tnaa
 ik
saubah Saama sabakao Tukuur ­Tukur doKnaa
kuC na khnaa AaOr
maMidr ­maisjad ko JagaD,ao ka
maUk saaxaI bananaa.


कालीपद "प्रसाद" 
©सर्वाधिकार सुरक्षित 

27 comments:

  1. बहुत सुन्दर विचारधारा प्रस्तुत की आपने | बधाई

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  2. खूबशूरत विचारों का लयबद्ध और सुन्दर प्रवाह

    ReplyDelete
  3. सार की तत्वपूर्ण सार्थक बात !

    ReplyDelete
  4. सच है की राह अलग अलग पर मंजिल एक ही है ...

    ReplyDelete
  5. sahi bat hai aapki ..par log kahan samajhte hain...

    ReplyDelete
  6. बहुत सार्थक और सारगर्भित चिंतन...

    ReplyDelete
  7. सच कहूँ तो स्वार्थ में अंधा इंसान इंसानियत भूल बैठा है .....ईश्वर-अल्लाह तो कुकर्म छुपाने के बहाने भर बन कर रह गये हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने बिलकुल सही कहा शिखा जी ,आभार

      Delete
  8. मैं आपसे सहमत हूँ शिखा जी |होली पर अग्रिम शुभ कामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  9. सार्थक तत्वपूर्ण विवेचना,आभार.

    ReplyDelete
  10. सारगर्भित सुन्दर विचार !!
    आभार !!

    ReplyDelete
  11. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-03-2013) के चर्चा मंच 1193 पर भी होगी. सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अरुन अनन्त जी

      Delete
  12. Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947 1h
    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ
    शनिवार, 23 मार्च 2013
    आखिर सारा प्रबंध इटली का ही तो है यहाँ .

    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    Expand Reply Delete Favorite More
    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947 1h
    इटली के ही पास गिरवीं है भारत की नाक http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2013/03/blog-post_23.html …
    एक्स्पंद
    शुक्रिया आपकी बहुमूल्य टिप्पणियों का .

    ReplyDelete
  13. इंसान का धर्म...सिर्फ़ और इंसानियत निभाना होता है...~ईश्वर एक ही है! भले ही नाम और राहें अलग-अलग हों...
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  14. धर्म के अलावा...सब अधर्म है...कोई शक...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर ...सहमत हूँ आपसे
    पधारें " चाँद से करती हूँ बातें "

    ReplyDelete
  16. "
    बहुत सुन्दर है आपका लेखन,
    आपके शब्द बहुत प्यारे लगे,
    आपको शुभ-कामनायें!"
    http://www.facebook.com/chetan.ramkishan

    ReplyDelete
  17. सार्थक पोस्ट...

    ReplyDelete
  18. पूनम जी ,आपने सही व्याख्या की है .धर्म क्या है ? इसपर मेरी अगली कविता है .आपके बहुमूल्य विचार का इन्तेजार रहेगा.

    ReplyDelete
  19. जीवन के सार्थक सत्य की जानकारी दी आपने
    बधाई

    ReplyDelete
  20. बहुत सार्थक कथन...होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  21. ईश्वर एक है सब उसी की संतान है वो तो इनसान ने ही स्वार्थ वश बँटवारा कर दिया है ,तथ्य परक आलेख हेतु हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  22. dhram ma hma kabhi fark nahi karna chaiya

    ReplyDelete