Sunday, 13 October 2013

महिषासुर बध !

              


 प्रिय मित्रों, पिछले पोस्ट में आपने नवदुर्गा के ऊपर लिखा गया हाइकू पढ़ा |मुझे ख़ुशी हुई कि आप लोगों ने उसे पसंद किया | आज नवमी पूजा है और दोपहर बाद दशमी अर्थात विजयादशमी शुरू हो रहा है | असुरों की  बध का दिन | इसीलिए महिषासुर बध की कहानी को मैंने हाइकू छंद  में  प्रस्तुत करने की  कोशिश की |यह लम्बा किस्सा है | अत: इसे संक्षेप में बताने की  कोशिश की है ,फिरभी इसका १११  हाइकू छंद बने | सबको एक साथ प्रस्तुत करना समय की  कमी के कारण संभव नहीं हो पा रहा है | इसीलिए यह तीन भाग ३७ ,३७, ३७  छंदों में प्रस्तुत किया जायगा| आपसे निवेदन है आप तीनो भाग को अवश्य पढ़े और अपना बहुमूल्य मत से मुझे अवगत कराएँ |

   
महिषासुर बध ! (भाग १ )

श्री महालक्ष्मी 
कमलासन स्थित 
दुर्गा स्वरुप |
अम्बिका देवी 
माँ महिषमर्दिनी 
अहम् नमामि |
हाथों में गदा 
शूल चक्र धनुष 
विविध अस्त्र |
फरसा गदा 
कुण्डिका दण्ड घंटा
अक्ष की माला |
देवों प्रदत्त 
सर्व अस्त्र सज्जित 
रण की साज |
नवीन रूप 
अम्बिका के कोशज
कौशिकी नाम |
*****
महिषासुर 
था असुरों का स्वामी
था महावली |
देवेन्द्र इन्द्र
देवों के साथ अग्नि
युद्ध में हारे |
ब्रहमा के आगे 
पराजित देवता
प्रार्थना किया |
१०
ब्रह्मा ने कहा 
विष्णु और शंकर 
शेष सहारा |
११
ब्रह्मा जी संग 
देवता गए जहाँ 
विष्णु शंकर |
 १२
देवेश्वरों को 
किस्सा पराजय की 
पूरी सुनाई |
१३
वायु, चन्द्रमा 
इन्द्र, अग्नि, वरुण
युद्ध में हारे |
१४
देवता सब 
विताड़ित स्वर्ग से 
आश्रय हीन |
१५
महिषासुर 
दुरात्मा दानव से 
देवता त्रस्त|
१६
हे भगवन !
करो कुछ उपाय 
आप सहारा |
१७
देवताओं के 
सुनकर वचन
विष्णु शंकर |
18
भौंये उनकी 
तनगए क्रोध से 
कोप से भरे |
१९
महान तेज 
श्री विष्णु के मुख से 
प्रकट हुआ |
२०
उसमें मिला 
ब्रह्मा ,शंकर ,इन्द्र 
शरीर तेज |
२१
देवतायों के 
शरीर से भी तेज 
आकर मिला |
२२
जाज्वल्यमान 
तेज पर्वत पुंज 
महान दृश्य |
२३
एकत्रित हो 
देवताओं  ने देखा
व्याप्त ज्वालायें |
२४
महान तेज 
फैला दशों दिशाएँ
चकित देव |
२५
सुन्दरी नारी 
आविर्भूत ज्वाला से 
दैविक रूप |
२६
कल्याणमयी
देवी का आविर्भाव 
देव प्रसन्न|
२७
पिनाकधारी 
भगवान शंकर 
शूल का दान |
२८
श्री विष्णु ने भी 
भगवती को दिया 
अपना चक्र |
२९
अग्नि ने शक्ति 
वरुण ने भी शंख 
किया अर्पण |
३०
वायु ने दिया 
वाण से भरे तुण
और धनुष |
 ३१
इन्द्र ने दिया 
अमोघ अस्त्र वज्र 
ओ एक घंटा |
३२
यम ने दिया 
कालदंड का दण्ड
वरुण पाश |
 ३३
प्रजापति ने 
स्फटिकाक्ष की माला 
प्रदान किया |
३४
ब्रह्मा ब्राह्मण 
क़मण्डलू भेंट किया 
भगवती को |
३५
देवताओं के 
सभी अस्त्र शस्त्र से
सज्जित देवी|
३६
गगन भेदी 
देवी के सिंहनाद
कापें धरती |
३७
पुरे विश्व में
कम्पन फैल गयी 
कापें पर्वत |
*********
क्रमशः-भाग २ 

कालिपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित






31 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत सुन्दर लिखा है...विजय दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं आप को..

    ReplyDelete
  3. सभी हाइकू लाजवाब हैं ... सटीक अर्थ लिए ...
    विजय दशमी की शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  4. हाइकू अच्छे लगे |सटीक और उम्दा |विजयदशमी पर हार्दिक शुभ कामनाएं |

    ReplyDelete
  5. आपकी यह पोस्ट आज के (१३ अक्टूबर, २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - बुरा भला है - भला बुरा है - क्या कलयुग का यह खेल नया है ? पर प्रस्तुत की जा रही है | आपको विजय दशमी की हार्दिक शुभकामनायें और सहर्ष बधाई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. माननीय तुषार राज जी आपका आभार !घरमे ही दुर्गा पूजा किया है इस वजह ब्लॉग पर पहुच नहीं पाया |.विलम्ब के लिए खेद है !

      Delete
  6. bahut sundar haiku ....sarthak bhii ...!!
    vijayadashmi ki shubhkamnayen .

    ReplyDelete
  7. विजयादशमी की शुभकामनाएँ !
    सुंदर !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर .
    नई पोस्ट : रावण जलता नहीं
    नई पोस्ट : प्रिय प्रवासी बिसरा गया
    विजयादशमी की शुभकामनाएँ .

    ReplyDelete
  9. विजयादशमी की अनंत शुभकामनाएं
    बहुत सुंदर
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    सादर


    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (14-10-2013) विजयादशमी गुज़ारिश : चर्चामंच 1398 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. माननीय शास्त्री जी आपका आभार !घरमे ही दुर्गा पूजा किया है इस वजह ब्लॉग पर पहुच नहीं पाया |.विलम्ब के लिए खेद है !

      Delete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।सटीक और उम्दा

    ReplyDelete
  12. वाह ! बहुत सुंदर हाइकू !
    विजयादशमी की शुभकामनाए...!

    RECENT POST : - एक जबाब माँगा था.

    ReplyDelete
  13. वाह ! बहुत सुंदर सटीक हाइकू !
    विजयादशमी की शुभकामनाए...!

    RECENT POST : - एक जबाब माँगा था.

    ReplyDelete
  14. शब्दों के छोटे -छोटे पुष्प-गुच्छों में भक्ति-भावना से परिपूर्ण बहुत सुंदर अभिव्यक्ति . विजया दशमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  15. यह तो हाइकू महाकाव्य के लक्षण हैं।

    ReplyDelete
  16. अनुपम ..विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएँ ..

    ReplyDelete
  17. अति उत्तम रचना

    ReplyDelete
  18. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. nc post sr !
      http://drpratibhasowaty.blogspot.in/2013/10/haiga-animation.html?spref=tw

      Delete
  19. विजय दशमी की हार्दिक शुभकामनायें
    संग्रहनीय सार्थक पोस्ट
    सादर

    ReplyDelete
  20. सार्थक हस्तकक्षेप हाइकु की मार्फ़त महिषासुर वध .सुन्दर प्रस्तुति .शेष भी ज़रूर पढेंगे आपने इतना श्रम लिखने में किया है .

    ReplyDelete
  21. सुंदर और सामयिक हाइकू, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  22. अति सुन्दर वर्णन ! आभार

    ReplyDelete
  23. बहुत सुंदर ...आप के ब्लॉग पर आ कर बहुत अच्छा लगा

    ReplyDelete
  24. अति सुन्दर ... आभार

    ReplyDelete