Thursday, 31 October 2013

हम-तुम अकेले


                                                                         
हम-तुम अकेले


 महानगरों में नागरिकों की  सुविधा के लिए जोगिंग पार्क  होते है | अधिकतर पार्कों में एक कोना बुजुर्गों (सीनियर नागरिक )के लिए  बनाया गया है | बुजुर्ग लोग इसी कोने में एकत्र होकर अपने सुख दुःख की बाते करते हैं| हैदराबाद के एक पार्क में बैठ कर एक बुज़ुर्ग दम्पति के जो दुःख दर्द मुझे महसूस हुआ ,उसे मैं इस कविता में ढाला है | यह केवल इनके दर्द नहीं है ,ऐसे अनेक  दंपत्ति मेरे आसपास रहते है जिनमे से बहुतों को मैं व्यक्तिगत  रूप से जानता हूँ,यह दर्द उनलोगों का भी है  |इसे देखकर संयुक्त परिवार के लाभ याद आती है |



आया है हर कोई अकेला
जाना  भी है हर को अकेला 
किस बात का दुःख है तुम्हे
प्रिये ! जरा सोचकर बताना |

मिला साथ मेरा तुम्हारा
हमने बांधा एक आशियाना,
चूजों के जब पंख होगा
उन्हें तो है उड़ जाना |

लड़की होगी ,ब्याह  होगी
जायेगी वह साजन के देश,
लड़का होगा ,पढ़ लिख कर
वो भी जायेगा विदेश |

मैं और तुम रह जायेंगे
जब तक हमें है जीना,
जब होंगे लाचार,अचल
आएगा क्या कोई अपना ?

कौन होगा अपना यहाँ
सिवा मैं तुम्हारे ,तुम मेरे लिए
इस आशियाना में काटेंगे दिन
हम, एक दूजे के लिए |

चित्र गूगल से साभार 


कालीपद "प्रसाद"
©सर्वाधिकार सुरक्षित





31 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (31-10-2013) "सबसे नशीला जाम है" चर्चा - 1415 में "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शास्त्री जी ! देर के लिए खेद है !

      Delete
  2. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
    Replies
    1. दीवाली कि शुभकामनायें आपको भी आदरणीय-

      Delete
  3. बहुत ही सुंदर और उम्दा.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. भाव संपूरित सुन्दर श्रृजन

    ReplyDelete
  5. ओह ,
    यह भी भोगना है शीघ्र ...??

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. रहना है तो रह भरोसे अपने ,

    या उस टेढ़ी टांग वाले कृष्ण कन्हाई के -

    न कुछ तेरा न कुछ मेरा ,चिड़िया रैन बसेरा ,

    बेटा बेटी बंधू सखा ,सुन कोई न तेरा ,

    सिर्फ प्रभु नाम तेरा .

    बहुत बढ़िया सर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. वीरेंदर भाई जी ,आपके उपयुक्त टिप्पणी के लिए आभार !

      Delete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 02/11/2013 को आओ एक दीप जलाएँ ...( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 039 )
    - पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
  9. मर्मस्पर्शी रचना प्रस्तुति
    आभार

    ReplyDelete
  10. आज के यथार्थ को चित्रित करती बहुत मर्मस्पर्शी रचना...

    ReplyDelete
  11. जिदगी के कड़वे सच को अभिव्यक्त करती कविता।

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुन्दर सर , आदरणीय को धनतेरस व दीपावली की शुभकामनाएँ
    नया प्रकाशन --: 8in1 प्लेयर डाउनलोड करें

    ReplyDelete
  13. बहुत लोगो में तो दम्पति भी बिछुड़ जाते हैं कोई अकेला ही रह जाता है
    दीपावली की बहुत बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  14. lajvab / link 4 u sr
    http://drpratibhasowaty.blogspot.in/2013/11/9-haiga-animation.html?spref=bl

    ReplyDelete
  15. दोनो हैं तो अकेले कहां,
    निभायेंगे साथ जब तक है जान।
    आपकी प्रस्तुति वृध्दों के दर्द को समेटे हुए है पर पार तो पाना होगा इससे भी।

    ReplyDelete
  16. आप सबको बहुत बहुत धन्यवाद और दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  17. सुंदर, भावपूर्ण
    !! प्रकाश का विस्तार हृदय आँगन छा गया !!
    !! उत्साह उल्लास का पर्व देखो आ गया !!
    दीपोत्सव की शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  18. .दीपावली की शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर !!
    दीपावली कि हार्दिक शुभकामना !!

    ReplyDelete
  20. सच कहा है .. जीवन तो अकेले ही काटना होता है वैसे भी ...
    दीपावली के पावन पर्व की बधाई ओर शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  21. jeevan ka sach.....hum sabko ek din samna karna hi hai is sach ka

    ReplyDelete