Wednesday, 9 October 2013

नव दुर्गा




माँ का हर रूप की महिमा केवल सत्रह अक्षर  में व्याख्या करना असम्भव है| हाइकू के नियमो का ध्यान रखते हुए एक नगण्य प्रयास  है| कुछ कह नहीं पाया | सबकुछ अनकहा रह गया है |यह सूर्य को दीपक 
दिखाने जैसे हो गया है |  

१,शैलपुत्री

पर्वत राज
हिमालय महान
पुत्री पार्वती|

शैल दुहिता
जगत में विख्यात
है शैलपुत्री||

२ ब्रह्मचारिणी

तपश्चारिणी
बनने शिव पत्नी
बनी योगिनी|

ब्रह्मचारिणी
बनी शिव की  पत्नी
दुसरा रूप||

३ चंद्रघंटा

तृतीय रूप
मुकुट में चन्द्रमा
माँ चन्द्रघंटा|

सिंह आरुड़
स्वर्णवर्ण शरीर
भय हारिणी ||

४.कुष्मांड

विश्व की  सृष्टि
अंड और ब्रह्माण्ड
 वह कुष्मांड |

सूर्य नक्षत्र
करती है सृजन
प्रकाशवान ||

५ स्कंदमाता

स्कन्द की  माता
नाम है स्कंदमाता
गोद में स्कन्द |

पंचम रूप
त्रिनेत्र चतुर्भुज
ब्रह्मस्तुता माँ ||

६.कात्यायनी

कात्यायनी माँ
कात्यायन की  बेटी
छठवां रूप |


कुँवारी कन्या
मन पसंद  वर
पूजा से पाए ||

७.कालरात्रि

रजनी सम
काली है कालरात्रि
बिखरे  बाल |

गधा सवारी 
चमकीले  त्रिनेत्र 
है शुभंकरी ||

८. महागौरी 

बहुत गोरी 
वुद्धि ,शांति स्वरुपा 
माँ महागौरी ||

त्रिशूल हस्ते 
शत्रुभय हारिणी 
भक्त वत्सला ||

९. सिद्धिदात्री

भक्त वान्छित
कर्म फल प्रदायिनी 
माँ सिद्धिदात्री |

नवम रूप 
नव रात्रि पर्व का 
अन्तिम पूजा ||


१० .विजय दशमी 

विजयी भक्त 
उल्लासित माहोल 
दशमी पर्व |

माता का जय 
जयकार वायु में 
धरा से नभ ||

११ . सत्य का जय 

 शत्रु का नाश 
असत्य पराभूत 
सत्य का जय |

कल्याणी माता 
पूजते हैं विधाता 
अहं नमामि ||


कालिपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित 



29 comments:

  1. सुन्दर अति सुंदर-
    नवरात्रि की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. आ0 कलिपद जी बहुत ही सुंदर हाइकु , बहुत बधाई आपको ।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर ! हायकू .
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ .

    ReplyDelete
  4. इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :-10/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -21 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजीव कुमार झा जी ,आपका बहुत बहुत आभार

      Delete
  5. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (10-10-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : अंक 142"शक्ति हो तुम
    पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजेन्द्र कुमार जी ,आपका बहुत बहुत आभार !

      Delete
  6. मन को प्रभावित करते सुंदर हाइकू ..!
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ ...!

    RECENT POST : अपनी राम कहानी में.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर | नवरात्रि की शुभकामनाएँ |

    मेरी नई रचना :- मेरी चाहत

    ReplyDelete
  8. नवरात्रि की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. bahut bahut sundar hiku mata par....navratri ki shubhkamnayein

    ReplyDelete
  10. बहुत बढिया..नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  11. वाह.....बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति.....
    नियमों का बंधन भी आपको रोक नहीं पाया..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर .... माँके हर रूप का वर्णन ....

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (10-10-2013) "दोस्ती" (चर्चा मंचःअंक-1394) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत आभार डॉ रूपचन्द्र शास्त्री जी !

      Delete
    2. आपका बहुत बहुत आभार डॉ रूपचन्द्र शास्त्री जी !

      Delete
  14. शक्ति स्वरूपा माँ दुर्गा के रूपों की बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..
    शुभ नवरात्र!

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सामयिक, हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  16. बहुत ही उत्तम ... माँ के अनेक रूप हाइकू के माध्यम से बखूबी वर्णित किये हैं ...

    ReplyDelete
  17. सर , सुन्दर प्रस्तुति व वर्णन , जय माता की

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुन्दर .. सुन्दर वर्णन

    ReplyDelete
  19. सुंदर प्रस्तुति..नवरात्र की शुभकामनाएं।।।

    ReplyDelete
  20. माँ जगदम्बे के सभी रूपों का सुन्दर ढंग से वर्णन ..अच्छे हाइकू
    बहुत सुन्दर रचना
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ ...
    भ्रमर५

    ReplyDelete
  21. वाह
    सभी बढ़ि‍या हैं जी

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर प्रस्तुति काली सर जी एक नयी विधा के साथ ... माँ जगदम्बे का आशीर्वाद बना रहे सादर

    ReplyDelete