Tuesday, 30 September 2014

शुम्भ निशुम्भ बध :भाग 7


आप सबको शारदीय नवरात्रों  ,दुर्गापूजा एवं दशहरा का  शुभकामनाएं ! गत वर्ष इसी समय मैंने महिषासुर बध की  कहानी को जापानी विधा हाइकु में पेश किया था जिसे आपने पसंद किया और सराहा | उससे प्रोत्साहित होकर मैंने इस वर्ष "शुम्भ -निशुम्भ बध" की कहानी को जापानी विधा "तांका " में प्रस्तुत कर रहा हूँ | इसमें २०१ तांका पद हैं ! दशहरा तक प्रतिदिन 20/२१ तांका प्रस्तुत करूँगा |आशा है आपको पसंद आयगा |नवरात्रि में माँ का आख्यान का पाठ भी हो जायगा !


भाग ६ से आगे 
         १२७
मात्री गणों का
असुरों का हनन
करते देख
दैत्य  सैनिक भीत
डर के भाग गए |
        १२८
भागते देख
रक्तबीज नमक
दैत्य क्रोध में
युद्ध के लिए आये
वर प्राप्त दैत्य था |
       १२९
रक्त की बूंद
उसके शरीर से
भू पर गिरे
शक्तिशाली दूसरा
दैत्य पैदा हो जाता |
         १३०
लेकर गदा
हाथ में रक्तबीज
करने लगा
युद्ध इन्द्र शक्ति से
भयंकर संग्राम ||
         १३१
तब ऐन्द्री ने
रक्तबीज को मारा
अपना बज्र
बज्राघात घायल
रक्तबीज का रक्त .....
          १३२
गिरा भू पर
हर बूंद खून से
उत्पन्न हुए
अनुरूप उसके
एक और असुर |
           १३३
दैत्य रक्त के 
जितने बूंद गिरे
उत्पन्न हुए
असुर उतने ही
रक्ताबीज समान |
          १३४
पराक्रमी थे
सब बलवान थे
वीर्यवान भी
अस्त्र शस्त्रों के साथ
युद्ध करने लगे |
          135
मात्री गण भी
असुरों के सहित
संग्राम किया
पुन; पुन: बज्र से
रक्तबीज को मारा |
           १३६
हजारों दैत्य
तब पैदा हो गए
रक्तबीज सा
सहस्त्र महादैत्य
सम्पूर्ण युद्ध स्थल |
         १३७
असुरों द्वारा
डराया देवताओं भी
हुआ चिंतित
देख देवताओं को
चिंतित ओ उदास |
         १३८
काली देवी ने
फैलाया मुख और
गिरने वाले
हर रक्त बिंदु को
मुहँ में ले पी लिया |
          १३९
महादैत्य के
रक्त को पीती हुई
प्रत्येक बूंद
रण में विचरती
महादेवी चामुण्डा|
         १४०
दैत्यों का सारा
रक्त क्षीण हो गया
क्षीण असुर
रक्तबीज का रक्त
समाप्त हुआ सब |
        १४१
चामुण्डा देवी
छोड़ा नहीं बूंद भी
पी लिया सब
चण्डिका मारी बज्र
निहत रक्तबीज |
          १४२
हर्षित देव
अनुपम आनन्द
देवलोक में
सब मात्री गण  भी
तृप्त रक्त पान से |


नवरात्रों की शुभकामनाएं |
              क्रमशः

कालीपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित

10 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..
    जय माँ भवानी!
    नवरात्र की शुभकामना!

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...जय माता दी...

    ReplyDelete
  4. सब को नवदुर्गा-वृत्त की शुभकामना ! आज के वृद्ध-दिवस की वधाई सभी वरिष्ठ नागरिकों को !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सभी वरिष्ट नागरिकों को अभिनन्दन !

      Delete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    अष्टमी-नवमी और गाऩ्धी-लालबहादुर जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    दिनांक 18-19 अक्टूबर को खटीमा (उत्तराखण्ड) में बाल साहित्य संस्थान द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय बाल साहित्य सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है।
    जिसमें एक सत्र बाल साहित्य लिखने वाले ब्लॉगर्स का रखा गया है।
    हिन्दी में बाल साहित्य का सृजन करने वाले इसमें प्रतिभाग करने के लिए 10 ब्लॉगर्स को आमन्त्रित करने की जिम्मेदारी मुझे सौंपी गयी है।
    कृपया मेरे ई-मेल
    roopchandrashastri@gmail.com
    पर अपने आने की स्वीकृति से अनुग्रहीत करने की कृपा करें।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
    सम्पर्क- 07417619828, 9997996437
    कृपया सहायता करें।
    बाल साहित्य के ब्लॉगरों के नाम-पते मुझे बताने में।

    ReplyDelete